महिलाओं को उनका अधिकार मिलना ही प्रथम प्राथमिकता : अनिता यादव

1 min read

महिलाओं को उनका अधिकार मिलना ही प्रथम प्राथमिकता : अनिता यादव

राजू निषाद अयोध्या/फैजाबाद। अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति जिला कमेटी अयोध्या द्वारा अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर देवकाली के नोखे के पुरवा में जिलाध्यक्ष अनिता यादव की अध्यक्षता व जिला सचिव मालती तिवारी के संचालन में हर्षोल्लास के साथ अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस जिंदाबाद, “लोकतंत्र बचायेंगे , महिला अधिकारों की गारंटी सुनिश्चित करवायेंगे” नारे के साथ मनाया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बूस्टर अकेडमी की प्रबंधक अनिता सिंह,जनमोर्चा समाचार पत्र लखनऊ की प्रधान संपादक सुमन गुप्ता,समाज सेविका अंजू अग्रवाल,डॉ अलका सिंह, मौलिक अधिकार पार्टी के अयोध्या लोकसभा पूर्व प्रत्याशी कंचन यादव,स्नेहलता निषाद मौजूद रही। सर्व प्रथम सभी अतिथियों का संगठन की जिलाध्यक्ष अनिता यादव ने माला पहना कर स्वागत किया। और जनौस के प्रदेश महासचिव कामरेड सत्यभान सिंह जनवादी ने सभी अतिथियो को शहीदो की स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। महिलाओं को सम्बोधित करते हुए जनमोर्चा की संपादक सुमन गुप्ता ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला अधिकारों के संघर्षों की विरासत को याद करने व आने वाली चुनौतियों के लिए संकल्प लेने का दिन बताया।
यह बीते वर्ष हम सबके लिए बेहद चुनौतीपूर्ण रहा जहां कोरोना महामारी के संकट ने आम जनता की रोजी रोटी छीन ली वहीं सरकार की अमीर परस्त नीतियों के कारण कुछ खरब पतियों की तिजोरियां दिन दूनी रात चौगुनी की रफ्तार से भर गईं। महिलाओं को मानसिक गुलामी त्याग कर जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में आगे आना चाहिए और पुरषों को भी संवेदनशील बनाने की आवश्यकता है। अनिता सिंह ने कहा कि एक ओर कोरोना महामारी का संकट और दूसरी ओर मंहगाई की मार ने आज गरीब औरत की जिंदगी को बंद से बदहाल बना दिया है, इसलिए हम सब महिलाओ को अपने अधिकार के संघर्ष करने के लिए तैयार रहना होगा। समिति की पूर्व अध्यक्ष साधना सिंह ने कहा कि महिला हिंसा की वीभत्स घटनाओं ने हमें सिहरा कर रख दिया है। “महिला सुरक्षा ” के नारे बस कागजों तक सिमट कर रह गये हैं, क्योंकि देशभर में महिलाओं के खिलाफ हिंसा में वृद्धि हुई है वहीं उप्र में तो 59,853(एन० सी ०यार० बी० -2019) के आंकड़ों के साथ सबसे आगे है। “हाथरस” सामूहिक बलात्कार मामले के हम सब गवाह बने जिसमें “संविधान” की धज्जियां उड़ाई गईं। डॉ अलका सिंह ने कहा कि आज हमारे’ संविधान और लोकतंत्र दोनों पर जबरदस्त हमले हो रहे हैं। लंबे संघर्षों के बाद हासिल किये गये हमारे संवैधानिक अधिकारों पर हर दिन हमला हो रहा है। समाजसेविका अंजू अग्रवाल ने कहा कि हमारी व्यक्तिगत जीवन की स्वतंत्रता को तानाशाही फरमानों के बूटों तले कुचला जा रहा है। विरोध के हर स्वर को घोंट दिया जा रहा है जो लोकतंत्र की आत्मा है।

किंतु हम महिलाओं ने हमेशा ही हर चुनौती का मुकाबला पूरे साहस के साथ किया है, हम 100 साल से भी पहले अपनी मजदूरी बढ़ाने व काम के घंटे कम करने के लिए हजारों की संख्या में सड़कों पर निकले तो वोट के अधिकार व सम्मान जनक जिंदगी के लिए आवाज बुलंद की। हमने एक हाथ में रोटी और एक हाथ में गुलाब लेकर युद्ध की विभीषिका के खिलाफ दुनिया भर में शांति की अपील की सभा की अध्यक्षता कर रही जिलाध्यक्ष अनिता यादव ने कहा कि हम लड़ रहे हैं नफ़रत के खिलाफ हमने अपने सभी अधिकार भीख में नहीं बल्कि लड़ कर पाये हैं। और आज भी हम लड़ रहे हैं रोजी रोटी और अपनी सुरक्षा के लिए हम लड़ रहे हैं संसद और विधानसभाओं में अपनी जगह सुनिश्चित करवाने के लिए हम लड़ रहे हैं, कंधे से कंधा मिलाकर अपने किसान भाइयों के साथ चला क्योंकि हम जानते हैं कि हमारे अन्नदाता का संघर्ष ही हमें हमारी रोटी की गारंटी देता है।
कार्यक्रम के अंत मे संचालन कर रही जिला सचिव मालती तिवारी ने क्रांतिकारी गीत हम लड़ रहे हैं रोटी और गुलाब के लिए हम लड़ रहे हैं, बदलाव और इन्कलाब के लिए.क्रांतिकारी गीत सुनाया। कार्यक्रम के अंत हम होंगे कामयाब एक दिन मन में है विश्वास पूरा हो विश्वास, हम होंगे कामयाब एक दिन, गीत गाकर कार्यक्रम का समापन किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से रामकली,इन्द्रवती,रामवती,सुमन पाण्डेय,रेशमा बानो,मीरा मिश्रा, अर्चना पाण्डेय,मीनाक्षी पाण्डेय,सरिता गुप्ता,नन्दनी,नीतू द्विवेदी,सुमन,माकपा नेता राम जी तिवारी सहित अन्य सैकड़ों महिलाएं मौजूद रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित