हर दो महीने में रिपोर्ट दें कार्यपरिषद सदस्य : आनंदीबेन पटेल

1 min read

हर दो महीने में रिपोर्ट दें कार्यपरिषद सदस्य : आनंदीबेन पटेल


लखनऊ। दिनांक 8 सितंबर, 2021 को प्रदेश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में माननीय कुलाधिपति नामित कार्यपरिषद सदस्यों से भेंट वार्ता में उत्तर प्रदेश की माननीय श्री राज्यपाल/ कुलाधिपति श्रीमती आनंदी बेन पटेल जी ने कहा कि आप लोग विश्वविद्यालयों के व्यवस्थित संचालन, विकास में सकारात्मक सहयोग दें, साथ ही हर दो महीने में रिपोर्ट करें कि विश्वविद्यालयों में क्या अच्छा हो रहा है और क्या गड़बड़ है।
कुलाधिपति महोदया ने कोविड काल में मृत कर्मचारियों के परिजनों को सरकार द्वारा घोषित सहायता न मिलने या मिलने में विलंब तथा मृतक आश्रितों को नौकरी पर न रखने के लिए नाराजगी व्यक्त किया। विशेषकर वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के कार्यपरिषद सदस्य डॉ ओ पी चौधरी की ओर मुखातिब होते हुए कहा कि इस मामले में आप के यहां क्या हो रहा है ?
संविदा/मानदेय/अतिथि/स्ववित्तपोषित शिक्षकों की समस्याओं के संबंध में उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ दिनेश शर्मा से मिलकर आप लोग इस समस्या का निराकरण करवाएँ। कतिपय विश्वविद्यालयों में तकनीकी शिक्षा व तकनीकी विकास की स्थिति संतोषजनक न होने को रेखांकित करते हुए इस बात पर बल दिया कि इन विश्वविद्यालयों को समय के साथ आवश्यक/अपेक्षित बदलाव करना आवश्यक है।
विश्विद्यालयों की परीक्षा आदि में विगत कुछ वर्षों में आये सुधार को रेखांकित करते हुए इसे आगे भी जारी रखने पर बल दिया।कुलाधिपति महोदया ने अपने अपर प्रमुख सचिव तथा विशेष कार्याधिकारी, शिक्षा से कहा कि इन सदस्यों के साथ चर्चा करके संज्ञान में लाये गये बिंदुओं पर आवश्यक कार्य करायें। माननीय कुलाधिपति से मिलने वालों में डॉ. जगन्नाथ गुप्ता सदस्य,कार्य परिषद छत्रपति साहू जी महाराज विश्वविद्यालय,कानपुर, डॉ. दीनानाथ सिंह, सदस्य प्रो.राजेन्द्र सिंह (रज्जू भैया) विश्वविद्यालय प्रयागराज, डॉ जगदीश सिंह दीक्षित, सदस्य राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय, अयोध्या, डॉ ओ.पी. चौधरी, सदस्य,वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर, डॉ रामजी पाठक, सदस्य, जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय, बलिया, प्रो.प्रेम नारायण सिंह व प्रो. प्रभात कुमार दीक्षित सदस्य, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ वाराणसी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित