इमाम हुसैन का बलिदान संपूर्ण मानवजाति के लिए है : मौलाना हैदरी

1 min read

इमाम हुसैन का बलिदान संपूर्ण मानवजाति के लिए है : मौलाना हैदरी

अंबेडकरनगर। जिले में होने वाली मजलिसें और अजादारी तहजीब-ए-अवध का मरकज है, इस विरासत को आगे बढ़ाने का उत्तरदायित्व हर अजादार पर है।
यह बात नगर के मीरानपुर स्थित अजाखाना चौधरी सिब्ते मुहम्मद नकवी में कर्बला के महान बलिदानियों की स्मृति में आयोजित वार्षिक मजलिस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुंबई से आए मौलाना अली असगर हैदरी ने कही। यादे हुसैन में आयोजित होने वाली मजलिसों के संबंध में उन्होंने कहा इसमें शामिल होने के लिए धर्म, जाति, रंग, नस्ल, क्षेत्र अथवा भाषा की शर्त नहीं है। प्रत्येक मानवतावादी व्यक्ति के लिए यहां का द्वार हर समय खुला है। क्योंकि कर्बला में इमाम हुसैन का बलिदान संपूर्ण मानवजाति के लिए है। अच्छे कार्यों के माध्यम से ही सच्चा अजादार बना जा सकता है। निरंतर मजलिसों तथा अजादारी के बाद भी नमाज जैसी अहम इबादत छूट रही है और बुराईयों से नाता नहीं टूट रहा है तो मान लेना चाहिए कि अजादारी कुबूल नहीं हो रही है। ईमान की कमजोरी का सबसे बड़ा कारण फर्शे मातम से दूरी बना लेना है। कार्यक्रम के समापन पर आयोजक हसन अस्करी मजलिसी ने उपस्थित जनों के प्रति आभार जताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित