बिजली के गुल होते ही नेटवर्क भी हो जा रहा है ग़ायब …

1 min read

बिजली के गुल होते ही नेटवर्क भी हो जा रहा है ग़ायब …

एक पखवारे से दुश्वारियों का सामना कर रहें हैंं विशेषकर एयर टेल उपभोक्ता ….

आजिज आ चुकें हैंं ग्रामीण उपभोक्ता …

विजय चौधरी / सह संपादक

अम्बेडकरनगर। आज जब हमारा समाज 21 वीं सदी में हाईटेक क्रांति के बदौलत अपनी बुलन्दी की नई इबारत लिखने को बेताब है । दुनियां जहाँ 2-जी , 3-जी , 4- जी के बाद आज 5- जी को सफलतापूर्वक संचालित करने को आतुर है । हमारी दैनिक दिनचर्या के हर कदम शिक्षा , व्यापार , बैंकिंग , विकास आदि सभी पर हाईटेक के बदौलत विकास को पंख दिये जा रहें हैंं । वहीं हमारा देश समुचित नेटवर्क दे पाने में ही खुद को असक्षम पा रहा है । ऐसे सबसे बद्तर स्थित ग्रामीण आंचल की है ।
ग्रामीण आंचल में बिजली के गुल होते ही मोबाइल के नेटवर्क का सिंगनल भी ग़ायब हो जा रहा है । एक पखवारे से ऐसी स्थित बनी हुई है ।जिससे बैंकों के लेनदेन व अन्य व्यवसाय भी प्रभावित हो रहें हैंं । सबसे दयनीय स्थित एयर टेल का है ।
विदित हो कि लगातार कम्पनियों की उदासीनता , ठगी व निष्ठुरता झेल रहे उपभोक्ताओं का आरोप है कि अबतक आजीवन रिचार्ज को बन्द से बचाने के लिए बीच में ही रिचार्ज करवाना पड़ रहा है , 29 से 31 तक होने वाले महीने टेली फोन विभाग ने 28 दिन कर दी वहीं डीजल तथा बिजली से चलने वाले उपकरणों के अब सिर्फ बिजली पर ही निर्भर कर दिया गया । जिससे बिजली के गुल होते ही मोबाइलों के सिंगनल खामोश हो जा रहें हैंं । जो उपभोक्ताओं के परेशानी का सबब बन गया है । विशेषकर नेट चलाने वाले उपभोक्ताओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित