वनों को बचाना मानवता को बचाना है : विनय सिंह

1 min read

वनों को बचाना मानवता को बचाना है : विनय सिंह

पर्यावरण प्रेमी साइकिल यात्रियों का काशी की धरा पर गर्मजोशी से हुआ स्वागत

वाराणसी। मध्य प्रदेश के छतरपुर जनपद स्थित बक्सवाहा के जंगल को बचाने के मुहिम में साइकिल से निकले मुजफ्फरपुर के युवा साथी पीपल,नीम, तुलसी अभियान के सिदार्थ झा और राजीव कुमार का कल वाराणसी पहुंचने पर लंका पर मालवीय जी की प्रतिमा के समक्ष जोरदार स्वागत हुआ था। इसी कड़ी में आज “सहयोगी” ने पर्यावरण संरक्षण हेतु जारी साइकिल यात्रियों एवम् अन्य पर्यावरण प्रेमियों के साथ महमूरगंज में पौधरोपण कर विमर्श किया।
कृषि विज्ञान के छात्र सिदार्थ और राजीव ने मुजफ्फरपुर से बक्सवाहा तक की यात्रा साइकिल से करने की ठानी है ताकि लोगों को पर्यावरण संरक्षण और उसके महत्व को बता सकें और उनका संदेश सरकार तक पहुंच सके,जिससे बक्सवाहा जंगल के लगभग सवा दो लाख पेड़ों को कटने से रोका जा सके और हजारों जीव जंतुओं के रैन बसेरे को सुरक्षित रखा जा सके। उत्तर प्रदेश में यात्रा का संयोजन कर रहे देव एक्सेल

फाउंडेशन,वाराणसी के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने बताया कि यह यात्रा मिर्जापुर,विंध्यधाम, प्रयागराज संगम से चित्रकूट होते हुए छतरपुर पहुंचेगी जहां अगस्त क्रांति 9 अगस्त को देश भर के पर्यावरण प्रेमी पीपल,नीम,तुलसी अभियान के संस्थापक डा धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में एकत्र होकर बक्सवाहा जंगल बचाने हेतु चिपको आंदोलन करेंगे। हम सभी साथ हैं,आप भी इस अभियान का हिस्सा बने ताकि पर्यावरण संरक्षण कर धरती पर जीवन को बचाया जा सके। इस अवसर पर देव एक्सेल फाउंडेशन,वाराणसी के राजकुमार पटेल, आरवी सिंह,अतुल सिंह,अजय सिंह,सहयोगी के सचिव डा ओ पी चौधरी, विश्वनाथ सनातन धर्म इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य अनिल वर्मा, अरुण सिंह आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

डा ओ पी चौधरी
सचिव, सहयोगी-सामाजिक,शैक्षणिक एवं सांस्कृतिक संस्था,वाराणसी।
एसोसिएट प्रोफेसर, मनोविज्ञान विभाग
श्री अग्रसेन कन्या पी जी कॉलेज वाराणसी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित