गरज उठी जो बीहड़ों में वह बंदूक पुरानी थीं नाम था उसका फूलन देवी वह चंबल की रानी थीं : जशपाल निषाद

1 min read

गरज उठी जो बीहड़ों में वह बंदूक पुरानी थीं नाम था उसका फूलन देवी वह चंबल की रानी थीं : जशपाल निषाद

अयोध्या/फैजाबाद, अवधी खबर (राजू निषाद)।विकासशील इंसान पार्टी के जिलाध्यक्ष जशपाल निषाद के नेतृत्व में वीरागंना विश्व विख्यात चर्चित महिला वीरांगना पूर्व सांसद बहन फूलन देवी का 20 वाँ शहाद्त दिवस मनाया जा रहा है। इस मौके पर पार्टी के सभी कार्यकर्ता व पदाधिकारी गण मौजूद रहे। जहाँ राष्ट्रीय अध्यक्ष सन ऑफ मल्लाह बिहार के कैबिनेट मंत्री मुकेश सहनी वाराणसी में शहादत दिवस का कार्यक्रम कर रहे थे उसी उपरांत सरकार ने जिस प्रकार बहन फूलन देवी के प्रदेश में मूर्ति स्थापना रोककर अपनी बेबसी का नमूना जाहिर किया हैं बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कोई भी सरकार हमारे इरादों को तोड़ नही पाएगी हम पुनः ताकत अर्जित कर फिर से मूर्ति का अनावरण करेंगे और इस बार प्रदेश के सभी 75 जिलों में मूर्ति की स्थापित करेगे। आज जिस तरह वीरांगना फूलन देवी की मूर्ति को लगाने से रोका गया इसमें संपूर्ण समाज को इकट्ठा होने पर मजबूर कर दिया। विकासशील इंसान पार्टी का जन्म संघर्ष पूर्ण माहौल में हुआ है, हमने जिस तरह बिहार में आरक्षण की लड़ाई लड़ते हुए खुद को स्थापित किया। उसी तरह उत्तर प्रदेश में संघर्ष करेंगे लड़ेंगे और यह वादा है सरकारों से आज जो प्रतिमा लगाने से रोका गया है। हम ऐसा करेंगे कि आने वाले कल में सरकार और प्रशासन खुद खड़े होकर मूर्ति लगवाएगी हम तो सिर्फ 16 मूर्ति लगाने के पक्ष में थे पर अब उत्तर प्रदेश के 75 जिलो के चौराहे पर मूर्ति को स्थापित करेंगे हमारे लगभग 160 विधानसभा सीटें मछुआ बाहुल्य है। जहां निषाद समुदाय निर्णायक भूमिका में है हम चुनाव लड़ेंगे संघर्ष करेंगे पर रुकेंगे नहीं, मंत्री सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी के निर्देशों का पालन करते हुए आगे बढ़ते रहेंगे क्योंकि हम पूरी तरह से मछुआ समाज वी0आई0पी0 हो गया है। इस अवसर पर डॉ0 अमित पटेल, मंजीत, रमेश निषाद, रामू निषाद, शिवनाथ निषाद, तुलसीराम निषाद, अरविंद यादव, दीपू कोरी, बालक राम विश्वकर्मा, इंद्रावती गौड़, पवन निषाद, सालिक राम,सुरेंद्र निषाद, मंजीत निषाद, राम अजोर निषाद पूर्व जिला पंचायत सदस्य ,घनश्याम निषाद,अखिलेश निषाद, बृजेश निषाद,दिनेश निषाद,अनुराग सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित