सहकारी समितियों से ग़ायब हुई यूरिया , किसान कैसे करें खरीफ़ की टॉप ड्रेसिंग …..

1 min read

सहकारी समितियों से ग़ायब हुई यूरिया , किसान कैसे करें खरीफ़ की टॉप ड्रेसिंग …..

अभाव व ब्लैक मार्केटिंग पर असहाय हुआ प्रशासन …

266:50 रुपये एम आर पी अंकित कीमत की जगह 280 से 350 रुपये प्रति बोरी बिक रही यूरिया …

अधिकतम खुदरा मूल्य से भी अधिक कीमत पर धड़ल्ले से बिक रही है यूरिया …

विजय चौधरी / सह संपादक

अम्बेडकरनगर। किसान हित का दम्भ भरने वाली केन्द्र और सूबे की सरकार में आज किसान चौतरफ़ा बेबस व लाचार नजर आ रहा है । किसान हितों को लेकर चलाये सारे सरकारी उपक्रम आज निस्प्रोज्य हो चलें हैंं ।
विदित हो कि किसानों के मसीहा चौधरी चरण सिंह द्वारा किसानों के उत्पादन , भण्डारण , मंडी , वस्त्र , उर्वरक आदि के लिए सेठ साहूकारों के याचना व गुलामी से मुक्ति दिलाने के लिए सहकारी समितियों की स्थापना करायी गयी । शनै शनै इन समितियों पर प्रबंधतंत्र इन्हीं सेठ साहूकारों का कब्जा होता गया और यह समिति अब किसान उत्पीड़न केन्द्र के रूप जाना जाने लगा ।
आज जब किसान अपने खरीफ़ फसल की रोपाई कर चुका है तो उसे अपने फसल की टॉप ड्रेसिंग के लिए यूरिया की महती आवश्यकता है । तो ऐसे में जहाँ सरकारी उपक्रम सहकारी समितियों से यूरिया नदारद हो चली है । वहीं बाजारों की प्राइवेट दुकानदार मंहगी कीमत वसूल रहें हैंं ।
नित किसानों के हित में फ़रमान जारी करने वाली सूबे व केन्द्र की सरकार में किसान के उपयोग में आने वाली यूरिया एक ऐसी उत्पाद है जिसके हर बोरी पर स्पष्ट अंकित अधिकतम खुदरा मूल्य 266 रुपया 50 पैसे है । पर प्रशासन के संरक्षण में धड़ल्ले से ऊंची कीमतों पर बेचीं जा रही है । इसमें सरकारी उपक्रम के रूप में स्थापित की गयी साधन सहकारी समिति भी पीछे नहीं है । सहकारी समितियों व प्राइवेट दुकानों पर यही यूरिया 280 रुपये से 350 रुपये प्रति बोरी खुलेआम धड़ल्ले से बिक रही है । यूरिया की इस कालाबाजारी पर सरकारी अमला भी ख़ास मेहरबान नज़र आ रहा है ।यूरिया के अभाव व ब्लैक मार्केटिंग से जूझ रहे क्षेत्र के किसानों की आवाज प्रशासन के नक्कारखाने में दफन होती जा रही है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित