बहुजन मुक्ति पार्टी ने बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाई मंडल वीपी सिंह व छत्रपति शाहू जी महाराज की जयंती

1 min read

बहुजन मुक्ति पार्टी ने बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाई मंडल वीपी सिंह व छत्रपति शाहू जी महाराज की जयंती

अम्बेडकरनगर (बृजेश कुमार)। बहुजन मुक्ति पार्टी ने आरक्षण के जनक कोल्हापुर के महाराजा छत्रपति शाहूजी व पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह की जयंती अकबरपुर कलेक्ट्रेट के निकट अपने कार्यालय पर जिला अध्यक्ष जयप्रकाश गुड्डू की अध्यक्षता में एवं पिछड़ा वर्ग के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी विकास पटेल की मौजूदगी में मनाई। चौधरी विकास पटेल ने अपने संबोधन में बताया कि कोल्हापुर के महाराजा छत्रपति शाहूजी ने एक दलित सेवक गंगाराम काबले की चाय की दुकान खुलने पर वहां चाय पीने का फैसला किया। पिछली सदी के शुरुआती में यह कोई मामूली बात नहीं थी उन्होंने काबले से पूछा, तुमने अपनी दुकान के बोर्ड पर अपना नाम क्यों नहीं लिखा है, इस पर काबले ने कहा कि दुकान के बाहर दुकानदार का नाम और जाति लिखना कोई जरूरी तो नहीं,महाराजा शाहूजी ने चुटकी ली ऐसा लगता है कि तुमने पूरे शहर का धर्म भ्रष्ट कर दिया है।26 जून 1874 को पैदा हुए शाहू जी कोई मामूली राजा नहीं थे, बल्कि महाप्रताप छत्रपति शिवाजी महाराजा के वंशज थे। वही जिला अध्यक्ष जयप्रकाश गुड्डू ने अपने संबोधन में बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह आजाद भारत के सबसे चमत्कार सितारों में से एक नेता थे। 9 अगस्त 1990 को मंडल लागू करने वाले और पिछड़ों दलितों के मसीहा के रूप में आए और काम किया जो उनसे पहले किसी के बस की बात नहीं थी, सब से पहले उन्होंने भूदान योजना में लगभग 300 बीघा जमीन दान देने वाले वह भारत देश के महान नेता थे और हमारा भविष्य भी उन्हें भूलेगा नहीं इतिहास से कब्र खोद कर उन की शौर्य गाथा को निकाला जाएगा। बीपी सिंह महान थे, और महान रहेंगे यह जिम्मेदारी शोषित वंचित और पिछड़ों दलितों को संभालना है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से जितेंद्र राजभर,चौधरी विकास पटेल, लालजी गौतम, विकास सक्सेना, एडवोकेट ओपी निगम ,लालजी बौद्ध, साजन राजभर सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित