ASP राष्ट्रीय अध्यक्ष व भीम आर्मी संस्थापक एड.चंद्रशेखर आज़ाद ही,कांशीराम के सपनों का भारत बनाएंगे : बब्लू राज

1 min read

ASP राष्ट्रीय अध्यक्ष व भीम आर्मी संस्थापक एड.चंद्रशेखर आज़ाद ही,कांशीराम के सपनों का भारत बनाएंगे : बब्लू राज

अम्बेडकरनगर (बृजेश कुमार)। बहुजन समाज में फैली तमाम भ्रामक कुरीतियों को दूर करने के लिए बब्लू राज वरिष्ठ नेता आजाद समाज पार्टी ने कड़ी निंदा व्यक्त करते हुए बताया कि अब तो बहुजन समाज को ही तय करना होगा। की कांशीराम साहब के द्वारा बनी पार्टी बीएसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बहुजन हिताय – बहुजन सुखाय को सर्वजन हिताय – सर्वजन सुखाय में बदलकर बहुजन विचार-धारा को बदलकर बहुजन समाज को गर्त्त की तरफ ढकेल दिया। किसका फायदा पहुंचने वाला है ! जहां मिशन का उददेश्य ही बदल जाये वहां समाज का कितना भला होगा ये तो समाज ही तय करें !आपको बता दें कि भीम आर्मी चीफ एड.चंद्रशेखर आज़ाद ने दूसरी तरफ बाबा साहब व कांशीराम की सौगंन्ध खाकर एक सरफिरा स नौजवान बहुजन नायक जिसने पूरे भारत में मूवमेंट में जान डाल कर बहुजन मूवमेंट को फिर से खडा़ कर दिया है।और कांशीराम साहब के नारा “बहुजन हिताय” – “बहुजन सुखाय” को चरिर्तार्थ करने के लिये सभी मनुवादी ताकतों से अकेले लड़ते हुये आगे बढ़ता चल रहा है। और अब देखना ये है कि भीम आर्मी व आजाद समाज पार्टी (कांशीराम)जिस समाज के लिये संघंर्ष करते हुये जान हथेली पर रख बहुजन समाज की तरक्की व न्याय दिलाना चाह रहे है वह समाज कितना साथ देता है ! यही नहीं केवल विपक्षी पार्टियां दूसरों की चमचा गिरी कर गलत बातों का प्रचार कर बाबा साहब के मूवमेंट को नुकसान पहुंचा रहे है !
बहुजन समाज को अपने विवेक से फैसला लेना है कि आज कौन बहुजन समाज के सम्मान के लिये सड़क से जेल तक लड़ रहा है ! अभी भी समय है बहुजन समाज संगठित होकर भीम आर्मी प्रमुख व आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चन्द्रशेखर आजाद के आगे आकर खुलकर साथ दे क्योंकि जन्मों में कोई ऐसा बहुजन नायक पैदा होता है ये कहना गलत ना होगा कि *कांशीराम के बाद भारत में एड0 चन्द्रशेखर आजाद* के दिल में बहुजन समाज का दर्द है। जैसे कांशीराम के दिल में था और भारत भर के बहुजन समाज को एक जुट कर सम्मान दिलाने का काम किया था !
इसलिये समाज अब सही फैसला ले कि किसके हाथो में बहुजन समाज का हित व सम्मान सुरक्षित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित