उमस भरी गर्मी में बिजली कटौती से लोग हलकान, शेड्यूल के अनुसार भी नहीं मिल रही बिजली

1 min read

उमस भरी गर्मी में बिजली कटौती से लोग हलकान, शेड्यूल के अनुसार भी नहीं मिल रही बिजली

आलापुर–अम्‍बेडकरनगर। एक तरफ जहां उमस भरी गर्मी का दौर जारी है, तो वहीं दूसरी तरफ क्षेत्र में अघोषित विद्युत कटौती के चलते लोगों का जीना दूभर हो गया है। दोपहर से ही बिजली की आंख मिचौली शुरु हो जाती है, जो दिन भर चलती रहती है। रात के समय में भी लाइट की कटौती से लोगों की नींद हराम हो रही है। गर्मी के इस मौसम में बिजली कटौती के चलते घरों व दुकानों में लगे विद्युत पर आधारित उपकरण शोपीस बने हुए हैं।लोगों को 12 घंटे भी बिजली नहीं मिल रही। इससे उपभोक्ताओं को दिक्कतें हो रही। खेतों की सिचाई व व्यापारियों का कामकाज भी प्रभावित हो रहा है। विभागीय अफसरों से शिकायत करने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
बता दें कि स्‍थानीय तहसील क्षेत्र के रामनगर व तेन्‍दुआईकला विद्‍यात उपकेन्‍द्र द्‍वारा क्षेत्र को बिजली सप्‍लाई दी जाती है। इन दिनों बिजली को लेकर शहर ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों में भी बुराहाल है। उमस भरी गर्मी से लोग बेहाल रहे। शाम होते ही लोगों को कुछ क्षण अंधेरा में ही गुजारना पड़ा। कभी लोग विद्युत अधिकारियों को कोसते तो कभी विभागीय मोबाइल पर फोन कर बिजली आने की जानकारी लेते।
उमस भरी गर्मी और ऊपर से लगातार हो रही बिजली की कटौती ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। दिन हो या रात बस लोगों को अघोषित बिजली कटौती का ही भय सताता रहता है कि बिजली ना जाने कब गुल हो जाए। बिजली कटौती के कारण लोगों की पूरी दिनचर्या खराब होकर रह जाती है। उमस भरी गर्मी से छोटे बच्चे, महिला और बुजुर्गों को भारी कठनाईयों का सामना करना पड़ता है। खासकर ग्रामीण क्षेत्र में बिजली की अघोषित कटौती से ग्रामीणों में सरकार के प्रति रोष व्याप्त है। बिजली विभाग द्वारा ग्रामीण क्षेत्र के लिए बनाए गए शेड्यूल के अनुसार भी बिजली उपलब्ध नहीं हो पा रही है जिसके कारण आजकल पड़ रही चिपचिपाती गर्मी और अघोषित बिजली कटौती ने लोगों की रात की नींद और दिन का चैन छीन लिया हैं। वही छोटे उद्योग व बिजली पर निर्भर दुकानदारों में बिजली निगम के प्रति खासा गुस्सा व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित