हर शुभ अवसर पर लगाये पौध : प्रो. रवि प्रकाश

1 min read

हर शुभ अवसर पर लगाये पौध : प्रो. रवि प्रकाश

लखनऊ। प्रत्येक बर्ष 5 जून को दुनिया भर में विश्व पर्यावरण दिवस का आयोजन किया जाता है। इस दिन का मुख्य उद्देश्य लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक करना है ।आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र सोहाँव बलिया के अध्यक्ष प्रो. रवि प्रकाश मौर्य ने बताया कि आधुनिक दौड़ के कारण धरा पर हर दिन प्रदूषण काफी तेजी से बढ़ता जा रहा है, जिसके दुष्परिणाम समय-समय पर हमें देखने को मिलते हैं। पर्यावरण में अचानक प्रदूषण का स्तर बढ़ने से तापमान में भी तेजी देखी जा रही है तो कहीं कहीं पर प्रदूषण के बढ़े हुए स्तर के कारण लंबे समय से बारिश भी नहीं हो पाती। ऐसे में लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरुक करने के लिए हर साल विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है।


प्रदूषण का बढ़ता स्तर पर्यावरण के साथ ही इंसानों के लिए खतरा बनता जा रहा है. इसके कारण कई जीव-जन्तु विलुप्त हो रहे हैं, वहीं इंसान कई प्रकार की गंभीर बीमारियों का शिकार भी हो रहे है। विश्व पर्यावरण दिवस की शुरुआत साल 1972 में संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से की गई थी. पर्यावरण दिवस की शुरुआत स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम से हुई थी. इसी दिन यहां पर दुनिया का पहला पर्यावरण सम्मेलन का आयोजन किया गया था । विश्व पर्यावरण दिवस मनाए जाने से पहले हर साल के लिए एक थीम का चयन किया जाता है. विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम ‘पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली है। जंगलों को नया जीवन देकर, पेड़-पौधे लगाकर, बारिश के पानी को संरक्षित करके और तालाबों के निर्माण करने से हम पारिस्थितिकी तंत्र को फिर से रिस्टोर कर सकते हैं.। डा.मौर्य ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति/ परिवार/ समाज प्रत्येक शुभ अवसर पर पौध लगाये। प्रत्येक जन्मदिन, विवाह उत्सव, प्रत्येक साल गिरह पर प्रत्येक व्यक्ति को कोई न कोई पौध जरूर लगाना चाहिए। इस प्रकार प्रत्येक परिवार प्रत्येक वर्ष 30 -50 पौधे लगा सकता है। आवश्यकता हो तभी ईधन वाहनों का प्रयोग करें। पर्यावरण की सुरक्षा के लिए प्लाटिक का उपयोग कम करना चाहिए और वैकल्पिक पर्यावरण अनुकूल वस्तुओं का प्रयोग करना चाहिए। जैविक खाद एवं जैविक पेस्टीसाइड का प्रयोग करें। फसल अवशेष न जलाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित