उर्दू विषय से स्नातकोत्तर की शिक्षा प्राप्त करने के उचित अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर

1 min read

उर्दू विषय से स्नातकोत्तर की शिक्षा प्राप्त करने के उचित अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर

टाण्डा अम्बेडकरनगर। उर्दू विषय से स्नातकोत्तर की शिक्षा प्राप्त करने के उचित अभ्यर्थियों के लिए अच्छी खबर है छात्र अब मौलाना आजाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय से एम.ए में प्रवेश प्राप्त कर उच्चतर शिक्षा भी प्राप्त कर दावते इस्लामी के मदरसे जामिअतुल मदीना से आलिम की सनद प्राप्त कर सकते हैं। उक्त जानकारी देते हुए टाण्डा जमीयतुल मदीना के नाजिम प्रधानाचार्य मौलाना शहजाद मदनी ने बताया कि मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनीवर्सिटी ने दावते इस्लामी के मदरसे जामिअतुल मदीना की फजीलत की सनद को स्नातक के समकक्ष मान्यता दी है जिससे प्रारम्भिक स्तर पर जामिअतुल मदीना के सैंकड़ों विद्यार्थी उच्चतर शिक्षा से लाभान्वित होंगे। इसके तहत दावते इस्लामी के मदरसों में स्थापित प्रवेश विभाग में उच्चतर शिक्षा सेल का संचालन किया जाएगा, जहां आलिम की सनद प्राप्त करने वाले युवाओं को मौलाना आजाद नेशनल उर्दू यूनीवर्सिटी से एम.ए. में प्रवेश के लिए सम्पूर्ण मार्गदर्शन प्रदान किया जाएगा।
शहजाद मदनी ने बताया कि हर वर्ष सैंकड़ों मुस्लिम नौजवान दावते इस्लामी के मदरसों से फारिग होते हैं । उनके लिए हर्ष का विषय है कि कि अब इस माध्यम से समकालीन शिक्षा की मुख्यधारा उच्चतर शिक्षा भी प्राप्त कर सकेंगे।
देश भर में इस समय दावते इस्लामी के सैकड़ों मदरसे स्थापित हैं जिनमें छात्रों को दीनी तालीम के साथ-साथ समानान्तर दुन्यावी शिक्षा भी प्रदान की जाती है।
दावते इस्लामी के मदरसों के छात्रों को माध्यमिक सार की शिक्षा प्रदान करने के लिए भी जामिअतुल मदीना में अध्ययनरत छात्रों को राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान एन आई ओ एस के
माध्यम से 10वीं और 12वीं की परीक्षा भी दिलवायी जाती है।
शारिक मदनी ने युवाओं से दावते इस्लामी के मदरसे जामिअतुल मदीना में प्रवेश लेकर दीनी व दुन्यावी दोनों शिक्षा ग्रहण कर देश व समाज की सेवा करने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित