शबनम की बूंदें भी गला घोंट देती हैंं एरकी फीडर बिजली की …

1 min read

शबनम की बूंदें भी गला घोंट देती हैंं एरकी फीडर बिजली की …

विभाग की उदासीनता एवं क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि की निष्क्रियता से आजिज़ हो चलें हैंं उपभोक्ता …

जर्जर उपकरण व खम्भों के सहारे दशकों से चल रही है आपूर्ति ….

विजय चौधरी / सह संपादक

अम्बेडकरनगर। जनपद की विधानसभा कटेहरी के एक भारी भाग को विद्युत आपूर्ति एरकी फीडर के नाम से दशकों से टूटे खम्भे व जर्जर तारों व उपकरण के सहारे दी जा रही है । जिसके चलते आये दिन आपूर्ति बाधित रहती है । उपकरण इतने जर्जर हो चलें हैंं कि हल्की बारिश की बूंद पड़ते ही आपूर्ति बाधित हो जाती है । स्थानीय लाइन मैन की घोर उदासीनता भी इसमें शामिल हो जाने से क्षेत्र के उपभोक्ता त्रस्त हो गयें हैंं । विकास पुरुष का दम्भ भरने वाले क्षेत्रीय विधायक भी अपने लक्जरी वाहन पर सवार होकर सिर्फ कंडोलेंस में शरीक हो रहें हैंं । जैसे क्षेत्रीय ज्वलन्त समस्या बिजली , सड़क , पानी , उत्पादन बिक्री व्यवस्था , शिक्षा आदि का कोई भान ही नहीं ।

ज्ञात हो कि विधानसभा कटेहरी स्थित रेलवे लाइन का उत्तरी भाग की विद्युत आपूर्ति पड़ोसी जनपद अयोध्या गद्दों पुर से यरकी फीडर के नाम से की जा रही है । जो दरवन झील के ऊपर से होकर गुजरती है । जिसपर खींचे गये तार इतने जर्जर व ढ़ीले हो चलें हैंं कि बरसात में जलभराव के समय पानी से स्पर्श करने लगतें हैंं । जर्जर व टूटे हुए लकड़ी के खम्भों के सहारे दशकों से दी जा रही विद्युत आपूर्ति हवा के झोंके व पानी की फुहार से ही बाधित हो जाती है । जिससे क्षेत्रीय उपभोक्ता काफी त्रस्त हो चलें हैंं । बार बार विभागीय सूचना करने व स्थानीय जनप्रतिनिधि के संज्ञान में लाने के उपरान्त भी समस्या जस की तस बनी हुई है ।
इसी बीच इस फीडर पर तैनात लाइन मैन विभाग के लिए दुधारू गाय साबित हो रहा है । हमेशा अपने कार्य से विरत होकर जमकर वसूली में व्यस्त रहता है ।
विगत चार दिनों से अंधेरे में जीवनयापन कर रहे क्षेत्रीय उपभोक्ताओं ने शासन एवं प्रशासन दे अतिशीघ्र उक्त समस्या से निजात दिलाने की मांग की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित