शबनम की बूंदें भी गला घोंट देती हैंं एरकी फीडर बिजली की …

1 min read

शबनम की बूंदें भी गला घोंट देती हैंं एरकी फीडर बिजली की …

विभाग की उदासीनता एवं क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि की निष्क्रियता से आजिज़ हो चलें हैंं उपभोक्ता …

जर्जर उपकरण व खम्भों के सहारे दशकों से चल रही है आपूर्ति ….

विजय चौधरी / सह संपादक

अम्बेडकरनगर। जनपद की विधानसभा कटेहरी के एक भारी भाग को विद्युत आपूर्ति एरकी फीडर के नाम से दशकों से टूटे खम्भे व जर्जर तारों व उपकरण के सहारे दी जा रही है । जिसके चलते आये दिन आपूर्ति बाधित रहती है । उपकरण इतने जर्जर हो चलें हैंं कि हल्की बारिश की बूंद पड़ते ही आपूर्ति बाधित हो जाती है । स्थानीय लाइन मैन की घोर उदासीनता भी इसमें शामिल हो जाने से क्षेत्र के उपभोक्ता त्रस्त हो गयें हैंं । विकास पुरुष का दम्भ भरने वाले क्षेत्रीय विधायक भी अपने लक्जरी वाहन पर सवार होकर सिर्फ कंडोलेंस में शरीक हो रहें हैंं । जैसे क्षेत्रीय ज्वलन्त समस्या बिजली , सड़क , पानी , उत्पादन बिक्री व्यवस्था , शिक्षा आदि का कोई भान ही नहीं ।

ज्ञात हो कि विधानसभा कटेहरी स्थित रेलवे लाइन का उत्तरी भाग की विद्युत आपूर्ति पड़ोसी जनपद अयोध्या गद्दों पुर से यरकी फीडर के नाम से की जा रही है । जो दरवन झील के ऊपर से होकर गुजरती है । जिसपर खींचे गये तार इतने जर्जर व ढ़ीले हो चलें हैंं कि बरसात में जलभराव के समय पानी से स्पर्श करने लगतें हैंं । जर्जर व टूटे हुए लकड़ी के खम्भों के सहारे दशकों से दी जा रही विद्युत आपूर्ति हवा के झोंके व पानी की फुहार से ही बाधित हो जाती है । जिससे क्षेत्रीय उपभोक्ता काफी त्रस्त हो चलें हैंं । बार बार विभागीय सूचना करने व स्थानीय जनप्रतिनिधि के संज्ञान में लाने के उपरान्त भी समस्या जस की तस बनी हुई है ।
इसी बीच इस फीडर पर तैनात लाइन मैन विभाग के लिए दुधारू गाय साबित हो रहा है । हमेशा अपने कार्य से विरत होकर जमकर वसूली में व्यस्त रहता है ।
विगत चार दिनों से अंधेरे में जीवनयापन कर रहे क्षेत्रीय उपभोक्ताओं ने शासन एवं प्रशासन दे अतिशीघ्र उक्त समस्या से निजात दिलाने की मांग की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित