सपा में मुखर हुए विरोध के स्वर , निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख ने भी ठोंकी अपनी दावेदारी ..

1 min read

सपा में मुखर हुए विरोध के स्वर ……

निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख ने भी ठोंकी अपनी दावेदारी ..

जिलाध्यक्ष पर लगाया कमजोर व जेबी निर्णय का आरोप …


अम्बेडकरनगर। सपा द्वारा त्री पंचायत चुनाव के दौरान लिए गये कमजोर निर्णय से दल का जो हाल हुआ वह किसी से छिपा नहीं रहा पर चुनाव के बाद भी उसका असर देखने को मिल रहा है। ज्ञात हो कि गत दिनों अकबरपुर सदर विकासखण्ड के प्रमुख पद प्रत्याशी के घोषित होते ही विरोध की ज्वाला धधक उठी । हुआ यो कि जिलाध्यक्ष द्वारा निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख का टिकट काटकर दूसरे को प्रत्याशी बना दिया गया। जिससे कार्यकर्ताओं में विरोध के स्वर मुखर हो गये। सपा से टिकट नहीं मिलने से अकबरपुर के निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख सुनीता वर्मा पत्नी राम कृष्ण वर्मा ने बगावती मूड में क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष की दावेदारी ठोक दी है। उनका आरोप है कि जिलाध्यक्ष द्वारा पुराने व समर्पित कार्यकर्ताओं को हासिये पर रखकर ऐसे लोगों को तरजीह व महिमामंडित किया जा रहा है जिनका पार्टी से कोई लेना देना नहीं है। प्रमुख पति राम कृष्ण वर्मा ने आक्रोश भरे लहजे में बताया कि जिस वक्त सपा का दामन थामने वाला कोई नहीं था , उस समय सपा संस्थापक आदरणीय माननीय मुलायम सिंह यादव का आगमन अपने घर पर करके प्रमुख परिवार द्वारा मेजबानी की गयी और तभी से पूरा परिवार समाजवादी विचारधारा को अंगीकार कर आजतक जुड़ा हुआ है। मेरा परिवार आज तक कभी भी दलबदल की राजनीति नहीं की , साथ ही सपा का समर्पित कार्यकर्ता बन गत सत्र सफल ब्लॉक प्रमुख पद का निर्वहन भी किया। किन्तु पूर्व कैबिनेट मंत्री के जेबी जिलाध्यक्ष उनके इशारे पर एक निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख का टिकट काट कर दलबदलू नवागत को प्रत्याशी बनाकर एक बार पुनः अपने कमजोर जिलाध्यक्ष का परिचय दिया ! जो नितान्त अनुचित है। जिलाध्यक्ष के इन्हीं कमजोर व गलत नीतियों के चलते ही पंचायती चुनाव में पराभव का सामना करना पड़ा । उन्होंने बताया कि यदि जिलाध्यक्ष अपनी कमजोर फैसले की पुर्नावृति पर विराम लगाकर अपने फैसले पर बिचार नहीं किये तो पार्टी का कमजोर प्रदर्शन तय है। जिसके जिम्मेदार सिर्फ जिलाध्यक्ष ही होगें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित