चुनाव निशान मिलते ही घमासान तेज, छह दिन होगा प्रचार

1 min read

चुनाव निशान मिलते ही घमासान तेज, छह दिन होगा प्रचार

जिला पंचायत के प्रत्याशी कलक्ट्रेट तो प्रधान बीडीसी व ग्राम सदस्‍य के प्रत्‍याशी ब्‍लाक मुख्‍यालयों पर जमाये रहे डेरा

आलापुर–अम्‍बेडकरनगर। गांव की नई सरकार के लिए हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में घमासान चुनाव निशान मिलते ही तेज हो गया है। बुधवार की दोपहर बाद जैसे ही चुनाव निशान मिले के प्रत्याशी तुरंत अपनी प्रचार सामग्री पर निशान छपवाने के लिए दौड़ पड़े। पोस्टर, बैनर छपवाने के साथ ही इस बार पंचायत चुनाव में हाईटेक व्यवस्था भी की गई है। डिजिटल रूप से हर मतदाता तक पहुंचने के लिए उनके मोबाइलों पर प्रचार सामग्री भेजी जा रही है। इस बार पंचायत चुनाव में किस्मत आजमाने उतरे उम्मीदवारों को प्रचार के लिए 27 अप्रैल शाम 5 बजे तक महज छह दिन का समय मिला है।


बता दें कि स्‍थानीय तहसील के रामनगर और जहांगीरगंज ब्‍लाक मुख्‍यालयों पर बुधवार को दोपहर तक नाम वापसी का समय निर्धारित रहा। नाम वापसी का समय पूरा होते ही प्रत्याशियों का चुनाव चिन्ह आवंटित किए गए। निर्वाचन आयोग ने पहले ही चुनाव निशान जारी कर दिए गए थे। प्रत्याशियों के नाम के अनुसार उनको चुनाव चिन्ह आवंटित किए गए। चुनाव निशान लेने के लिए जिला पंचायत के प्रत्याशी 10 बजे ही कलक्ट्रेट पहुंच गए वहीं ग्राम प्रधान व क्षेत्र पंचायत व ग्राम पंचायत सदस्‍य पद के प्रत्‍याशी ब्‍लाक मुख्‍यालयो पर डेरा जमाये रहे। तीन बजे के बाद अपना चुनाव निशान लेने के लिए नामांकन कक्षों में पहुंच गए। आरओ व एआरओ ने चुनाव निशान किसको क्या मिला है इसकी सूची बाहर चस्पा कर दी। जैसे ही चुनाव निशान मिला कि प्रत्याशी प्रचार सामग्री पर निशान छपवाने के लिए दौड़ पड़े। अब चुनाव निशान के साथ उम्मीदवार चुनावी मैदान में दौड़ रहे हैं। हर मतदाता तक पहुंच बनाने के लिए इस बार डिजिटल रूप से चुनाव प्रचार किया जा रहा है। मतदाताओं के मोबाइलों पर मैसेज भेजकर चुनाव निशान की जानकारी दी जा रही है। 27 अप्रैल की शाम तक ही चुनाव प्रचार होगा। इसलिए इस बार उम्मीदवारों को छह दिन ही चुनाव प्रचार के लिए मिल रहे हैं।चुनाव निशान मिल जाने के बाद प्रत्याशियों ने अपनी पूरी ताकत झोंकनी शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित