कीटों के प्रबंधन में जैविक कीटनाशी व फेरोमोन ट्रेप ज्यादा लाभदायकः प्रो : रवि प्रकाश

1 min read

कीटों के प्रबंधन में जैविक कीटनाशी व फेरोमोन ट्रेप ज्यादा लाभदायकः प्रो : रवि प्रकाश

बलिया। कोरोना गाइड लाईन का पालन करते हुए स्वयं सेवी संस्था वर्ड विजन आफ इण्डिया , क्षेत्रीय परियोजना कार्यक्रम बलिया के सौजन्य से बेरूवारबारी के चयनित कृषकों/कृषक महिलाओं हेतु एक प्रशिक्षण का आयोजन संस़्था के सभागार में किया गया। सर्व प्रथम संस्था के प्रबंधक मनोज कुमार ने स्वागत करते हुए प्रशिक्षण के उद्देश्यों पर चर्चा की । इस अवसर पर आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौधोगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र सोहाँव बलिया के अध्यक्ष प्रोफेसर रवि प्रकाश मौर्य ने बीजोपचार, अन्नभण्डारण , फसलों में कीट ,रोग प्रबंधन, मधुमक्खी पालन, मशरुम उत्पादन आदि पर समसामयिक जानकारी दी गयी।

तथा बताया कि फसलों मे कीटो के प्रबंधन हेतु रसायनिक कीटनाशकों का प्रयोग न करे। यह स्वास्थ्य के लिये हानिकारक है। कीटों के प्रबंधन के लिये जैविक कीटनाशक, फेरोमोन ट्रेप का प्रयोग ज्यादा उपयोगी है। डा.मनोज कुमार ,विषय वस्तु विशेषज्ञ ( अनुवांशिक एवं पादप प्रजनन). ने धान की खेती पर प्रकाश डालते हुए नर्सरी में सावधानी ,प्रजातियों, रोपाई/ बुआई की विधि पर जानकारी दी। राजीव कुमार स़िंह ,विषय वस्तु विशेषज्ञ ( उघान) ने फल, सब्जी, फूल पोषण बाटिका , सब्जी नर्सरी आदि पर प्रकाश डाला। संस्था द्वारा आये हुए चयनित कृषकों को पोषण वाटिका हेतु विभिन्न सब्जियों के बीज किट् उपलब्ध कराये गये। इस कार्यक्रम में सामुदायिक विकास फैसिलिटेटर निधिन कुमार, चन्द्र कुमार वर्मा, टरेन्स चालर मोहन सहित 130 से अधिक कृषक कृषक महिलाओं ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित