सरदार पटेल का यह अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान …

1 min read

सरदार पटेल का यह अपमान, नहीं सहेगा हिंदुस्तान …

मोटेरा स्टेडियम का नाम बदलकर नरेन्द्र मोदी स्टेडियम करने से नाराज सरदार सेना ने फूंका पी एम का पुतला ….

विजय चौधरी /सह संपादक

अम्बेडकरनगर। मोटेरा स्टेडियम के नाम परिवर्तन को लेकर आक्रोशित सरदार सेना के कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री प्रदेशव्यापी पूतला दहन का आयोजन आज किया । सरदार सेना ने आरोप लगाते हुए बताया कि वर्तमान समय में देश की सत्ता पर काबिज हुकूमत की तानाशाही रवैया दिनों-दिन बढ़कर फिरंगी से भी ज्यादा जुल्म ढा रही है। जिसका असर बीजेपी नेताओं, मंत्रियों में साफ दिख रहा है। जिस प्रकार देश की विरासत के साथ खिलवाड़ कर पूर्वजों की गौरवगाथा व शौर्यता को इतिहास से मिटा कर अपनी नयी इतिहास लिखना प्रारंभ कर दिया है, ऐतिहासिक स्थान के नाम को बदलकर अपने नाम करने की एक नई परम्परा की शुरुआत कर रही है । इससे साफ जाहिर होता है कि इनकी मंशा महान व्यक्तित्व के महापुरूषों के प्रति साफ़ नहीं है । सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के उद्देश्य से ही देश के प्रधानमंत्री ने मोटेरा स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम कर दिया।
इस मुद्दे को लेकर देश की जनता में रोष व्याप्त है। इस कृत्य से आक्रोशित सरदार सेना के कार्यकर्ताओं ने आज पूरे प्रदेश भर में जगह जगह पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला फूंक कर विरोध दर्ज किया। जनपद में भी विधानसभा कटेहरी के बहादुर पुर चौराहे पर सरदार सेना ने विरोध स्वरूप पी एम का पुतला फूका।


इस अवसर पर सरदार सेना संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष चन्द्रेश वर्मा ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा मोटेरा स्टेडियम ‘सरदार पटेल स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स को नाम बदलकर अब नरेन्द्र मोदी स्टेडियम कर दिया गया है। इस खबर को लेकर पूरे देश भर में आक्रोश दिख रहा है। इसको लेकर सरदार सेना सामाजिक संगठन व अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आक्रोशित होकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला फूंका।सरदार सेना के राष्ट्रीय सचिव आत्माराम पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री अपने कार्यकाल के दौरान केवल देश की विरासत को धूमिल करने व सरकारी सम्पत्तियों को बेचने का ही कार्य कर रहें हैंं । देश की गौरवशाली विरासत को क्षति पहुंचाकर इतिहास मिटाना चाहतें हैंं । ऐसे प्रधानमंत्री को सत्ता में बने रहने का अब कोई नैतिक अधिकार नहीं होना चाहिए ।
आत्माराम पटेल ने कहा कि देश की अखंडता व एकता के महान शिल्पी सरदार पटेल के इस अपमान को हिंदुस्तान बर्दाश्त नहीं करेगा। जब इस प्रसंग पर विपक्ष ने सरकार से जानकारी चाही तो सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सिर्फ मोटेरा स्टेडियम का नाम बदला गया है , जबकि पूरा खेल परिसर सरदार वल्लभ भाई पटेल के ही नाम पर रहेगा। तो फिर ये नाम ही बदलने का औचित्य क्या ? आप सभी से सादर अपील है कि भारत रत्न लौहपुरुष सरदार पटेल के इस अपमान के विरोध में एवं देश हित में अपनी आवाज बुलंद करें।
इस दौरान सरदार सेना के जिला अध्यक्ष विनोद वर्मा, सरदार सेना प्रदेश महासचिव डॉ अमित पटेल , भारतीय किसान सहयोग संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आशुतोष, भारतीय नागरिक किसान संयोग संघ टांडा ब्लाक अध्यक्ष शिवम पटेल मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित