स्वजाति सुरक्षा कवच से खुद को मुफ़ीद मानता है डी एम का रसूखदार स्टोनो ….

1 min read

स्वजाति सुरक्षा कवच से खुद को मुफ़ीद मानता है डी एम का रसूखदार स्टोनो ….

दो दशकों से एक ही पटल पर रहकर दे रहा है अपने काले कारनामे को अन्जाम ….

…….आखिर कब तक चुप रहोगे हुक्मरान …

विनोद वर्मा / विजय चौधरी

अम्बेडकरनगर। जनपद अम्बेडकर नगर के आला हाकिम का बाबू अपने स्वजाति के सुरक्षा कवच में पलकर खुद को इतना सशक्त व पहुंच दार महसूस कर रहा है कि एक ही पटल पर दो दशकों से जमे , अपने आतंक के वातावरण में निरंकुश व विलासितापूर्ण शासन चला रहा है। ऐसे में खुद ही अंदाज़ा लगाया जा सकता है। जब आला हाकिम का अधीनस्थ बाबू की ऐसी हरकत होगी तो आमजन को न्याय कैसे सुलभ होतें होगें ?
कुछ पीड़ित लोग अपना नाम सामने नहीं लानें की शर्त पर बताया कि इस बाबू की निरंकुशता इस कदर बढ़ चुकी है कि बगैर मुंह मांगी सुविधा शुल्क के इसके पटल से कोई भी फाइल आगे बढ़ ही नहीं सकती। कभी कभी तो जिलाधिकारी की न जानकारी में अपने सहकर्मियों पर जिलाधिकारी का रोब व अर्दब भी बखूबी दिखाता है। यदि किसी ने इसका विरोध करने का साहस भी जुटाया तो उसे इसके सजातीय शिकंजे द्वारा अपमानित भी होना पड़ता है। इस पटल पर जातीयता का दम्भ भी खुलेआम प्रसारित किया जा रहा है। जो सभी के संज्ञान में है फिर भी ऐसी क्या मजबूरी हमारे जनपद के हकीमों की है कि इतनी खामियों के बावजूद इस बर्बर बाबू की गिरेबान में तत्कालीन जिलाधिकारी पंकज यादव के अतिरिक कोई भी जिलाधिकारी हाथ डालने का साहस नहीं जुटा पा रहा है ।
एक क्लर्क होकर दबंगई के बल पर व पद का दुरपयोग कर अवैधानिक रूप से सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर जनपद मुख्यालय पर ही विलासितापूर्ण दिनचर्या में हकीमों की मेहरबानी पर ही खुलेआम घूम रहा है। आखिर कब होगी इस बाबू पर कार्यवाही , आखिर क्या है इस मेहरबानी का राज ?जिज्ञासा है जनपद वासियों को ,दशकों से जो यक्ष प्रश्न बना हुआ है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित