रौतार वंशीय क्षत्रियों की बैठक शक्ति धाम दुर्गा मन्दिर में सम्पन्न

1 min read

रौतार वंशीय क्षत्रियों की बैठक शक्ति धाम दुर्गा मन्दिर में सम्पन्न

अपने वंश की परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए हुए संकल्पित

अम्बेडकरनगर। राजपूत समाज के रौतार वंशीय क्षत्रियों में परस्पर भाई चारा बढाने व सामाजिक उत्थान समेत कई विन्दुओ को लेकर बाबा खेमशाह के नाम से स्थापित ग्राम सभा खेमापुर के मां शक्ति धाम मंदिर में एक बैठक की गई ।
बैठक का आरम्भ मां भवानी के जयघोष एवं क्षत्रिय कुलभूषण वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप को पुष्पांजलि समर्पित करने के साथ रौतार वंशीय क्षत्रियों की सभा प्रारंभ हुई, जिसमें खेमापुर ,रैमलपुर, जैतपुर, सोनावा,मुस्तफाबाद,चाचिकपुर, ह्रदयपुर,सया,रामदास पट्टी,अहिरौली,खजाएं, अशरफपुरवरवा और टीकमपारा ग्राम सभा के रौतार वंशीय क्षत्रियों ने भाग लिया और सभी मिल बैठकर अपने वंश की परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए संकल्पित हुए।

सभा में आए हुए सभी स्वजनों ने विजय प्रताप सिंह की अध्यक्षता में उत्साह पूर्वक अपनी बातों को रखा, सभी की बातों पर विचार किया गया । बैठक में सामाजिक सन्तुलन बनाने आपस मे भाईचारा समेत अत्याधुनिकता की चकाचौध में बिछड़ते प्राचीन सदाचारों व आचरणों को भी साथ लेकर चलने का संकल्प लिया गया ।अगली बैठक 14 फरवरी दिन रविवार को टीकम पारा ग्राम सभा में प्रमोद सिंह के घर पर आहूत करने के विचार के बाद “रौतार क्षत्रिय वंश जिंदाबाद” जय घोष के साथ सभा को स्थगित किया गया। सभी आगंतुक स्वजनों ने आयोजक सभा के लोगो एवं समस्त खेमापुर ग्राम वासियों की प्रशंसा किए। इस दौरान महन्त सिंह,हनुमान सिंह, दिलीप सिंह,पप्पू सिंह, राजेश सिंह, रामसेन सिंह,विजय शंकर सिंह,राजेश सिंह , अजय सिंह, हर्ष बर्धन सिंह,चुनना सिंह मन्दिर के पुजारी राकेश उपाध्याय समेत तमाम लोग मौजूद रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित