अन्ततः टूट ही गया डिवाइन पब्लिक स्कूल के दम्भ का तिस्लिम …

1 min read

अन्ततः टूट ही गया डिवाइन पब्लिक स्कूल के दम्भ का तिस्लिम …

हफ्तों बाद दर्ज हुआ दोषी अध्यापक के खिलाफ़ मुकदमा …

सर्वप्रथम अवधी खबर ने निर्भीकता से उठायी इस जुर्म के खिलाफ़ कलम …

विजय चौधरी /सह संपादक

अम्बेडकरनगर। विगत दिनों सर्वप्रथम अवधी खबर में प्रमुखता से प्रकाशित हुई डिवाइन पब्लिक स्कूल के अध्यापक द्वारा बच्चे की निर्ममतापूर्वक सर पर पिटायी की खबर ने पीड़ित छात्र को न्याय पाने के रास्ते को सुगम किया ।

ज्ञात हो कि उक्त विद्यालय की निरंकुशता अपने में एक दस्तूर हो चला था । एक तरफ समूचे देश में मानवाधिकार का डंका बोल रहा है। वहीं जनपद मुख्यालय का एक विद्यालय डिवाइन पब्लिक स्कूल है जहाँ आज भी मानवाधिकार की धज्जियां खुलेआम उड़ायी जा रहीं हैंं ।
विदित हो गत दिनों उक्त विद्यालय के कक्षा दस का छात्र ओम मौर्या पुत्र हरिशचंद्र मौर्या अपना गृहकार्य पूरा नहीं करके विद्यालय पहुंचा तो अध्यापक द्वारा छात्र के सर पर इतनी निर्ममतापूर्वक पिटायी की गयी कि उसके कान का पर्दा फट गया । जब इसकी शिकायत छात्र के पिता द्वारा प्रधानाध्यापक द्वारा किया गया तो उन्होंने अपनी गलती स्वीकार करने के बजाय इसे विद्यालय की परम्परा बताते हुए अविभावक को अपमानित कर भगा दिया गया । साथ ही धमकी भी दी गयी कि यदि कहीं भी इसकी शिकायत की तो अन्जाम बहुत ही बुरा होगा । एक तरफ चोटहिल छात्र के कान जख्मी होने के कारण सुनना बन्द हो गया है , दूसरी तरफ प्रधानाध्यापक के धमकी से भयभीत पीड़ित पिता दहशतजदा होकर स्थानीय कोतवाली अकबरपुर में लिखित शिकायत करते हुए न्याय की गुहार लगायी । पर विद्यालय प्रबंधन के अर्जित अकूत धन व पकड़ के कारण हफ्तों तक पीड़ित को टरकाया जाता रहा । परन्तु अवध प्रांत के प्रमुख अवधी खबर के प्रकाशन प्रमुखता से विद्यालय के दम्भ का तिस्लिम टूट गया और भी न्यायसंगत कार्यवाही पर मजबूर हुआ । जिससे निराश हो चुके पीड़ित छात्र ओम मौर्या को न्याय मिलने की आस जगी ।
कर लूँ जो इरादे , पत्थर पर गुल खिला दूँ ।
हिम्मत है इतनी दिल में आसमान को झुका दूँ ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित