उप सम्भागीय कार्यालय को आर आई ने बनाया अवैध कमाई का अड्डा ….

1 min read

उप सम्भागीय कार्यालय को आर आई ने बनाया अवैध कमाई का अड्डा ….
धन कुबेर बनने की लालसा में गैंग बनाकर अवैध वसूली करने का आरोप ….

आर आई द्वारा नियुक्त किये गये दलाल रिश्तेदारों द्वारा पाँच गुनी अधिक कीमत वसूल कर धड़ल्ले से कर रहे हैंं कण्डम वाहनों का फिटनेस ….

विनोद वर्मा / विजय चौधरी सह संपादक

अम्बेडकरनगर“बरबाद गुलिश्तां करने को जब एक ही उल्लू काफ़ी है !
अन्जाम ए गुलिश्तां क्या होगा , जब हर साख पर उल्लू बैठा है । “
जनपद का उप सम्भागीय कार्यालय अपने काले कारनामों के चलते एक बार फिर सुर्खियों में आ चुका है । विभाग में तैनात आर आई विपिन कुमार की हरकतों ने पूरे विभाग को शर्मसार कर दिया है । लोगों का आरोप है कि आर आई विपिन कुमार के दो सहयोगियों की जुगलबन्दी पूरे जनपद को तबाह करने पर तुली हुई है । विभाग से संचालित होने सभी कार्यों की फीस चार से पाँच गुना बढ़ा दी गयीं हैंं । फिटनेस व लायसेंस परीक्षण के लिए विपिन ने प्रतीक कुमार व शनि कुमार को अपने जनपद रायबरेली से लाकर अपने साथ लेकर खुलेआम अवैध वसूली करवा रहा है । जो अपने को विपिन के रिश्तेदार बता रहें हैंं । स्पीड गवर्नर व कबाड़ वाहनों का भी फिटनेस आर आई द्वारा नियुक्त किये गये दलालों द्वारा चार से पाँच गुना अधिक वसूल कर धड़ल्ले से जारी किये जा रहें हैंं ।


विदित हो कि परिवहन कार्यालय में विपिन कुमार की तैनाती आर आई के पद पर गत वर्ष 2019 में हुई । तैनाती के उपरान्त से ही विपिन कुमार को धनकुबेर बनने की सनक सवार हुआ । इन दो वर्षों में 50-60 लाख रुपये की अनैतिक कमाई इस आर आई द्वारा की जा चुकी है । इसका पिता भी भ्रष्टाचार के आरोप में निलम्बित हो चुका है । उसी फार्मूले पर चल रहे विपिन ने तो जनपद अम्बेडकरनगर में अपनी एक गैंग ही तैयार कर रखी है । शिकायतों का दौर जारी है पर विभागीय गहरी पैठ के चलते अभी तक वरिष्ठ अधिकारी की सहानुभूति बनी हुई है या उनके भी हाथ इस काली कमाई के खून से सने हुए हैंं ।
क्षेत्र में चर्चा तेज हो चली है कि आखिर कब होगी ऐसे भ्रष्ट अधिकारी पर कार्यवाही ?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित