मानव सेवा परमो धर्म:

1 min read

मानव सेवा परमो धर्म:

अम्बेडकरनगर। मानव की सेवा बहुत ही पुनीत कार्य माना जाता है कहते है कि खिदमत-ए-ख़ल्क़ ही सबसे बड़ा धर्म है। जिस व्यक्ति के अंदर दूसरे के लिये सेवा की भावना नही वह मानव नही बल्कि दांनव की श्रेणी में आता है। मसड़ा बाजार में मसड़ा सोशल ग्रुप की तरफ से आयोजित फ्री दवा फ्री चेकअप आंख कैम्प आयोजन स्थल पर टाण्डा एसेम्बली के साबिक़ रुक्न पहलवान जी मरहूम के पुत्र मुसाब अज़ीम के हाथों शॉल तक़सीम की गई मसड़ा सोशल ग्रुप के सदस्यों के साथ ही मो.आमिर,आसिफ सिद्दीकी अफजल,आलम,अबुबकर सिद्दीकी आदि लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित