Maharashtra Crisis: Uddhav Thackeray Calls Emergency Meeting – एकनाथ शिंदे के बागी गुट की लगातार बढ़ रही ताकत के बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने बुलाई इमरजेंसी बैठक

1 min read

एकनाथ शिंदे के बागी गुट की लगातार बढ़ रही 'ताकत' के बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने बुलाई इमरजेंसी बैठक

मुंबई :

महाराष्‍ट्र में नियंत्रण से बाहर हो रहे सियासी हालात के बीच सीएम उद्धव ठाकरे ने विभाग प्रमुखों की इमरजेंसी बैठक बुलाई है. विधायकों के बढ़ते समर्थन के साथ एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाले विधायकों की ताकत में इजाफा होता जा रहा है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मातोश्री में होने वाली इस बैठक में राज्‍य के सियासी हालात पर विचार होगा. विभाग प्रमुख जमीन पर सियासी हालातों की सही जानकारी देने के लिए जाने जाते हैं. ठाकरे ने यह बैठक ऐसे वक्त बुलाई है, जब बागी कैंप में शामिल शिवसेना के विधायकों की संख्या 40 तक पहुंचने वाली है. शिवसेना सांसद संजय राउत के बयानों के बीच महा विकास अघाड़ी सरकार में हलचल तेज हो गई है.

यह भी पढ़ें

इस बीच, राज्‍य के सियासी संकट को लेकर राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) की ओर से बुलाई गई बैठक में सीएम उद्धव ठाकरे के प्रति पूरा समर्थन जताया गया. एनसीपी नेता और डिप्‍टी सीएम अजित पवार ने कहा, ” महाराष्ट्र मे जो कुछ राजनीतिक परिस्थिति निर्माण हुई है उसमें हम उद्धव ठाकरे के साथ पूरी तरह से खड़े हैं.” बागी रुख अख्तियार किए एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाले गुट की ताकत लगातार बढ़ती जा रही है और करीब 40 विधायक इससे समर्थन में आ गए हैं;. मौजूदा हालात में सीएम उद्धव ठाकरे की स्थिति लगातार कमजोर होती जा रही है.  इस बीच, दो और शिवसेना विधायक, शिंदे और उनके सहयोगी 41 विधायकों के साथ जुड़ने के लिए असम के गुवाहाटी रवाना हुए हैं. शिंदे गुट ने मांग की है कि शिवसेना को कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन खत्‍म करना चाहिए तथा फिर से पुराने सहयोगी बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनानी चाहिए.

हालात हाथ से निकलते देखकर शिवसेना ‘बैकफुट’ पर नजर आ रही है. शिवसेना प्रवक्‍ता और सांसद संजय राउत ने एक ट्वीट किया है, इसमें उन्‍होंने बागी विधायकों से चर्चा के जरिये मामला सुलझाने की अपील की है. बागी विधायकों को संबोधित इस ट्वीट में कहा गया है, ‘चर्चा से मार्ग निकल सकता है. चर्चा हो सकती है. घर के दरवाजे खुले हैं. दर-दर क्यों भटक रहे हो? गुलामी झेलने से अच्छा है स्वाभिमान तरीके से निर्णय लें. जय महाराष्ट्र!’ इससे पहले, राउत ने कहा था कि हम महाविकास आघाडी सरकार से खुद को अलग करेंगे पर पहले बागी विधायक गुवाहाटी से मुंबई तो वापस आएं. इससे पहले राउत ने अपने विधायकों से व्हाट्सएप और ट्वीट की जगह आमने-सामने बैठकर बात करने की बात कही थी. शिवसेना के दो बागी विधायकों के वापस लौटने के बाद संजय राउत ने पीसी कर कहा कि बागी शिवसेना विधायक 24 घंटे में लौट आएं. हम महाविकास अघाड़ी से निकलने पर विचार करेंगे.  

* भारत में COVID-19 केसों में 8.68 फीसदी उछाल, पिछले 24 घंटे में 13,313 नए मामले

* ‘हमेशा के लिए भूतपूर्व हो जाएंगे…’, महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच बागी विधायकों को शिवसेना की चेतावनी

* ‘यह विचारधारा की लड़ाई है’, राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने कहा

महाराष्ट्र संकट : पार्टी पर उद्धव ठाकरे की पकड़ क्यों कमजोर पड़ती जा रही है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *