Yogini Ekadashi 2022 Date Shubh Muhurat Puja Samagri List And Vrat Rules – Yogini Ekadashi 2022: योगिनी एकादशी पड़ रही है इस दिन, जानें तिथि, पूजा की सामग्री और व्रत के नियम

1 min read

योगिनी एकादशी 2022 तिथि | Yogini Ekadashi 2022 Date


पंचांग के मुताबिक योगिनी एकादशी (Yogini Ekadashi) का व्रत आषाढ़ कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि पर रखा जाता है. पंचांग के अनुसार एकादशी तिथि का आरंभ 23 जून, गुरुवार को रात 9 बजकर 41 मिनट से हो रहा है. वहीं एकादशी तिथि की समाप्ति 24 जून, शुक्रवार को रात 11 बजकर 12 मिनट पर हो रही है. एकादशी का व्रत उदया तिथि में रखा जाता है, इसलिए योगिनी एकादशी का व्रत 24 जून, शुक्रवार को रखा जाएगा. इसके अलावा योगिनी एकादशी व्रत का पारण (Yogini Ekadashi Vrat Parana) 25 जून, शनिवार को किया जाएगा. 

योगिनी एकादशी पर भूल से भी ना करें ये 7 काम, नहीं तो मां लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज


योगिनी एकादशी पूजन सामग्री | Yogini Ekadashi Puja Samagri List


भगवान विष्णु की तस्वीर या मूर्ति

पीले फूल, पीले चंदन

अक्षत, रोली, तुलसी के पत्ते 

पान, सुपारी

नारियल, लौंग

धूपबत्ती, दीपक

घी, पंचामृत

मिठाई, फल  

योगिनी एकादशी का महत्व  | Significance of Yogini Ekadashi

शास्त्रों में योगिनी एकादशी व्रत का खास महत्व बताया गया है. मान्यता है कि इस एकादशी का विधिवत व्रत रखने और उसके नियमों का पालन करने से व्रती को भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त होता है. जिससे पाप कर्म नष्ट हो जाते हैं. मन शांत और निर्मल रहता है. साथ ही मृत्यु के उपरांत मोक्ष की प्राप्ति होती है. 

 इस दिन कुंवारी कन्याएं रखेंगी गौरी व्रत, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

योगिनी एकादशी व्रत के नियम | Yogini Ekadashi Vrat Rules

मान्यता है कि योगिनी एकादशी व्रत के दौरान झूठ नहीं बोला जाता है. माना जाता है कि ऐसा करने से व्रत का पूरा फल नहीं मिलता है. 


योगिनी एकादशी के व्रत में किसी के साथ भी बुरे बर्ताव नहीं करने चाहिए और ना ही किसी की आत्मा को ठेस पहुचाना चाहिए. 


योगिनी एकादशी व्रत के दिन ब्रह्मचर्य का पालन करना अनिवार्य माना गया है. मान्यता है कि इस ब्रह्मचर्य का पालन करने से व्रत का फल मिलता है. 


योगिनी एकादशी व्रत में एक दिन पहले से ही अन्न ग्रहण नहीं किया जाता है. मान्यता है कि द्वादशी तिथि के दिन पारण के बाद ही अन्न ग्रहण किया जाता है. 


योगिनी एकादशी का व्रत रखने वाले दशमी के दिन सूर्यास्त से पहले ही भोजन कर लेते हैं. क्योंकि इस दिन सूर्यास्त के बाद से ही व्रत के नियम शुरू हो जाते हैं. 

शनि देव के बाद बृहस्पति देव चलेंगे उल्टी चाल, इन राशियों की किस्मत में लगेंगे चार चांद, होंगे ये बदलाव

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. एनडीटीवी इसकी पुष्टि नहीं करता है.) 

ये 5 बुरी आदतें बनाती हैं हड्डियों को कमजोर, आज से ही करना छोड़ दें ये काम​

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *