Presidential Poll: Sharad Pawar Declined To Run For President Post At Opposition Meeting Of Mamata Banerjee – Presidential Poll: शरद पवार ने राष्ट्रपति उम्मीदवारी का प्रस्ताव ठुकराया, ममता बनर्जी की ओर से बुलाई गई थी बैठक

1 min read

ममता बनर्जी की बुलाई मीटिंग में शामिल होते शरद पवार व अन्य नेता

नई दिल्ली:

राष्ट्रपति चुनाव (Presidential election) को लेकर ममता बनर्जी की ओर से बुलाई गई बैठक में शरद पवार ने राष्ट्रपति उम्मीदवारी के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है. बताया जाता है कि शरद पवार ने अभी राजनीति में सक्रिय रहने की इच्छा जताई है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने 18 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर आज दिल्ली में 22 राजनीतिक दलों की बैठक बुलाई है. हालांकि 16 विपक्षी दलों के नेता ही इस बैठक में पहुंचे.

यह भी पढ़ें


इस बैठक में मुख्यमंत्रियों समेत 22 विपक्षी दलों को न्यौता भेजा गया था. ममता बनर्जी की इस बैठक में आप संयोजक अरविंद केजरावील और तेलंगाना राष्ट्र समिति के मुखिया के. चंद्रखेशर राव बैठक में शामिल नहीं हुए. वहीं नवीन पटनायक की पार्टी बीजेडी की तरफ से भी कोई नेता इसमें शामिल नहीं हुआ. ममता बनर्जी ने यह बैठक आगामी राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की ओर से राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार तय करने के लिए बुलाई थी.

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्ष की बैठक आज, कांग्रेस की मौजूदगी के विरोध में KCR की पार्टी ने किया बहिष्कार

इस बैठक में एनसीपी से शरद पवार और प्रफुल्ल पटेल, सपा से अखिलेश यादव, पीडीपी से महबूबा मुफ्ती, कांग्रेस के जयराम रमेश और मल्लिकार्जुन खड़गे, डीएमके के टी आर बालू, शिवसेना से सुभाष देसाई और प्रियंका चतुर्वेदी, जेडीएस से एचडी कुमारस्वामी और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा, नेशनल कॉन्फ्रेस से उमर अबदुल्ला, आरजेपी से मनोज झा और एडी सिंह मीटिंग में पहुंचे थे.

इसके बाद विपक्षी दलों के नेताओं की एक बैठक 20 या 21 जून को हो सकती है, जिसमें विपक्ष की तरफ से उम्मीदवार कौन होगा, इसका अंतिम फैसला लिया जायेगा. राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन की आखिरी तारीख 29 जून है. विपक्षी दल इससे करीब एक हफ्ते पहले अपना उम्मीदवार तय करेंगे.

ममता बनर्जी की बैठक में 16 विपक्षी दलों के नेता पहुंचे, राष्ट्रपति उम्मीदवार के नाम पर होगी चर्चा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित