Amid Controversy, Letter From An Officer In Lanka On How Adani Group Got The Power Project – Exclusive : विवाद के बीच श्रीलंका के अधिकारी का खत आया सामने, बताया कैसे मिला अडाणी को पावर प्रोजेक्ट

1 min read

Exclusive : विवाद के बीच श्रीलंका के अधिकारी का खत आया सामने, बताया कैसे मिला अडाणी को पावर प्रोजेक्ट

नई दिल्‍ली :

श्रीलंका के एक अधिकारी ने इस दावे के साथ बड़े विवाद को जन्‍म देने के बाद पद से इस्‍तीफा दे दिया है कि पीएम नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा राष्‍ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa)पर दबाव बनाने के बाद श्रीलंका में एक ऊर्जा प्रोजेक्‍ट गौतम अडानी  ग्रुप (Gautam Adani Group)को दिया गया था. श्रीलंका के सीलोन इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड (सीईबी) के चेयरमैन एमएमसी फर्डिनांडो ने रविवार को उस दावे को वापस ले लिया था कि जिसमें कहा गया था कि राष्‍ट्रपति राजपक्षे ने उन्‍हें बताया था कि पीएम मोदी ने पावर प्रोजक्‍ट को सीधे अडानी ग्रुप को देने के लिए दबाव डाला था. फर्डिनांडो ने शुक्रवार को एक संसदीय पैनल के समक्ष सुनवाई के दौरान यह दावा किया था. एनडीटीवी के पास मौजूद इस लेटर से पता चलता है कि श्रीलंका के मन्‍नार जिले में  500 मेगावाट की अक्षय ऊर्जा परियोजना में भारत सरकार भी शामिल थी.  

3ppq9cm4

फर्डिनांडो की ओर से 25 नवंबर 2021 को लिखा गया यह लेटर, वित्‍त मंत्रालय के सचिव एसआर एटीगला को संबोधित है. पत्र में प्रधानमंत्री द्वारा, अडानी ग्रीन एजेंसी के प्रस्‍ताव को भारत सरकार की ओर से श्रीलंका सरकार के प्रस्‍ताव के रूप में मान्‍यता देने के निर्देश का हवाला दिया गया है क्‍योंकि एफडीआई संकट का सामना करने के लिए, दोनों देशों के प्रमुख श्रीलंका में इस निवेश के लिए सहमत हैं.

यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *