Prayagraj Violence Accuseds Daughter Asked Question How Did My House Suddenly Become Illegal – अचानक से मेरा घर अवैध कैसे हो गया?, घर तोड़े जाने पर प्रयागराज हिंसा के आरोपी की बेटी ने पूछा सवाल

1 min read

प्रयागराज में हिंसा के आरोपी जावेद अहमद के घर को रविवार को तोड़ दिया गया

नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में बीते दिनों भड़की हिंसा (Prayagraj Violence) मामले में कार्रवाई जारी है. रविवार को प्रयागराज हिंसा के आरोपी जावेद अहमद के घर पर बुलडोजर (Bulldozer) चलाया गया. घर तोड़े जाने पर जावेद अहमद की बेटी ने एनडीटीवी के साथ बात करते हुए सवाल उठाया है कि ‘अचानक से मेरा घर अवैध कैसे हो गया?’. सोमैया फातिमा ने कहा कि यह बात समझना बहुत जरूरी है कि अचानक से हमारा घर अवैध कैसे हो गया? जब हमलोग हर बार टैक्स देते रहे हैं तब फिर अचानक बिना किसी नोटिस के एक दिन के अंदर ही अंदर अवैध कैसे हो गया? ये सब 12 घंटे के अंदर हो गया. यह घर मेरी अम्मी के नाम पर था. मेरे नाना ने उनको गिफ्ट में दिया था. इसमे मेरे अब्बा का कोई हाथ नहीं था. जमीन मेरी अम्मी का था. जिस पर बने घर को अवैध बताकर तोड़ दिया गया है. 

यह भी पढ़ें

बताते चलें कि प्रयागराज में हिंसा के आरोपी जावेद अहमद के घर बुलडोजर से ध्वस्तीकरण की कार्रवाई का मामला गरमा गया है. वकीलों के एक समूह ने इसको लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र लिखा है.वकीलों की तरफ से कहा गया है कि जिस घर को तोड़ा गया है उसका मालिक आरोपी जावेद नहीं था. घर जावेद की पत्नी के नाम है. घर को ध्वस्त करना कानून के खिलाफ है. आरोपी की पत्नी को अवैध निर्माण की कोई पूर्व सूचना नहीं दी गयी थी. 

गौरतलब है कि शुक्रवार को हुई हिंसा मामले में वेलफेर पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश महासचिव जावेद अहमद को गिरफ्तार किया गया था. वहीं रविवार को प्रयागराज विकास प्राधिकरण की ओर से उसके आलीशान घर को ध्वस्त कर दिया गया. अवैध निर्माण करने के आरोप में प्रशासन की तरफ से यह कार्रवाई की गयी. कार्रवाई से पहले जावेद के घर के बाहर पीडीएस की ओर से नोटिस चिपकाया गया था.

ये भी पढ़ें-

Video : रांची हिंसा को स्‍थानीय लोगों ने बताया काला धब्‍बा, कहा- बाहर से आए थे लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित