Everyone Has The Right To Protest In A Democratic Country, But Do Not Pelt Stones: Shahi Imam Syed Ahmed Bukhari – लोकतांत्रिक देश में विरोध करने का सबको हक, लेकिन पत्थरबाजी न करें : शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी

1 min read

शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि नाराजगी पूरे मुल्क में है, लेकिन जहां प्रदर्शन हो, वहां प्रशासन से इजाजत लेना जरूरी है.

खास बातें

  • नुपुर शर्मा और नवीन जिंदल की पैगंबर पर टिप्पणियों का विरोध
  • देश के कई हिस्सों में हुए विरोध प्रदर्शन
  • दिल्ली की जामा मस्जिद के बाहर नारेबाजी

नई दिल्ली:

भारतीय जनता पार्टी (BJP) की पूर्व प्रवक्ता नुपुर शर्मा (Nupur Sharma) और नवीन कुमार जिंदल द्वारा पैगंबर (Prophet) पर की गई टिप्पणियों को लेकर आज देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन (Protest) हुए. इस मुद्दे पर NDTV से बातचीत में दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी (Shahi Imam Syed Ahmed Bukhari) ने कहा कि लोकतांत्रिक देश में सभी को अपनी मांग को लेकर प्रदर्शन करने का हक है, लेकिन एडमिनिस्ट्रेशन से इजाजत के बाद. कुछ शहरों में पथराव हुआ. विरोध प्रदर्शन करने से पहले लोगों को इस पर गौर कर लेना चाहिए. हमें पत्थरबाजी और इन चीजों से परहेज करना चाहिए. 

यह भी पढ़ें

शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने दिल्ली में जामा मस्जिद के पास हुए विरोध प्रदर्शन को लेकर कहा कि ”जो भी वाकया हुआ, यह अचानक हुआ, किसी को भी नहीं मालूम था. जामा मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिए आए लोगों की तादाद बहुत कम थी. लोगों ने बताया कि अधिकतम 50 लोग होंगे. वे जामा मस्जिद में नमाज पढ़ने के बाद बाहर निकले और उन्होंने अपने जेब से कुछ पेपर निकाले. वे उन पेपरों को हाथ में लेकर नारे लगाने लगे. वे कौन थे, कहां से आए थे और उनका किससे ताल्लुक था, यह मैं तो नहीं कह सकता. सब अचानक हुआ लेकिन कल रात से इसकी अफवाहें फैल रही थीं. लोगों ने बताया कि सोशल मीडिया पर भी चल रहा था कि बंद रखें. मुख्तलिफ किस्म की बातें सोशल मीडिया पर थीं. कुछ लोग मेरे पास आए, वे मार्केट भी बंद करना चाहते थे. मैंने उन्हें समझाया कि हालात ठीक नहीं हैं, मुनासिब नहीं होगा कि मार्केट बंद किए जाएं. उन्होंने बात मान ली.”           

उन्होंने कहा कि ”जामा मस्जिद से निकले लोगों ने 15-20 मिनिट नारे लगाए और उसके बाद वे चले गए. लेकिन उनका किस पार्टी से ताल्लुक था, कौन थे, यह मैं नहीं कह सकता. एक चैनल ने खबर चलाई कि वे फलां पार्टी के थे. यह आपस में गलत फहमियां फैलाने के लिए खबर चलाई गई.” 

शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने कहा कि ”नाराजगी तो पूरे मुल्क में है. नाराजगी अपनी जगह है लेकिन जहां प्रदर्शन हो, वहां प्रशासन से इजाजत लेना जरूरी है. पुलिस बताएगी कि प्रदर्शन हो सकता है या नहीं. लोकतांत्रिक देश में सभी को अपनी मांग को लेकर प्रदर्शन करने का हक है, लेकिन एडमिनिस्ट्रेशन से इजाजत लेने के बाद. यहां दिल्ली में किसी ने कोई इजाजत नहीं ली और न हमारे पास कोई सूचना थी.”    

उन्होंने कहा कि ”जो लोग नारे लगाने आए थे, उनकी सही तादाद मुझे नहीं मालूम है. भीड़ जब हो तो कुछ लोग तमाशाई भी होते हैं, कुछ देखने लगते हैं कुछ उसमें शामिल हो जाते हैं.” उन्होंने कहा कि ”कुछ शहरों में पथराव हुआ. विरोध प्रदर्शन करने से पहले लोगों को इस पर गौर कर लेना चाहिए. हमें पत्थरबाजी और इन चीजों से परहेज करना चाहिए.” 

यह भी पढ़ें – 

कैमरे में कैद, पुलिस ने पैगंबर पर टिप्पणियों के विरोध के बीच रांची में हवाई फायर किए

पैगंबर टिप्पणी विवाद को लेकर कई शहरों में बड़े पैमाने पर विरोध-प्रदर्शन; 10 बड़ी बातें

VIDEO : यूपी के प्रयागराज में पुलिस ने गिरफ्तारी के दौरान प्रदर्शनकारियों को लाठियों से पीटा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित