श्री अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज में वीरांगना लक्ष्मीबाई की भूमिका विषय पर संगोष्ठी का हुआ आयोजन

1 min read

वाराणसी। श्री अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज वाराणसी में आजादी के अमृत महोत्सव के अन्तर्गत रानी लक्ष्मीबाई शहीदी दिवस/वीरांगना दिवस के अवसर पर 1857 की क्रांति में वीरांगना लक्ष्मीबाई की भूमिका विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता डॉ मनीषा सिन्हा ने वीरांगना लक्ष्मीबाई का जीवन संघर्ष तथा 1857 की क्रांति में उनके योगदान के विषय में चर्चा किया। आजादी के अमृत महोत्सव के समन्वयक डॉ दुष्यंत सिंह ने रानी लक्ष्मीबाई को नारी सशक्तिकरण के आदर्श के रूप में बताया और कहा कि वे वीरता और शौर्य की प्रतीक हैं। सह समन्वयक डॉ नंदिनी पटेल ने राष्ट्रवाद हिंदू मुस्लिम एकता के एक उदाहरण के रूप में लक्ष्मी बाई की चर्चा की तथा 1857 की स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान के विषय में बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता हिंदी विभाग की अध्यक्ष, भाषा संकाय की संकायाध्यक्ष एवम् चीफ प्रॉक्टर डॉ अर्चना सिंह ने किया। डा सिंह ने वीरांगना के अदम्य साहस और विवेक की चर्चा करते हुए उन्हें स्वतंत्रता की अग्रिम पंक्ति का योद्धा बताया। इस अवसर पर डॉक्टर मृदुला व्यास, डॉक्टर बंदनी, डॉ मेनका सिंह, डॉक्टर पूनम श्रीवास्तव एवं छात्राएं उपस्थित रही।

दूसरी ओर मिशन शक्ति एवम् शारीरिक शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में अमृत योग सप्ताह के 5वें दिन समन्वयक डा दुष्यंत सिंह ने प्रातः योग का अभ्यास कराया।शारीरिक शिक्षा विभाग की अध्यक्ष डा मृदुला व्यास ने छात्राओं को योग की बारीकियों व दैनिक जीवन में उसके महत्व को रेखांकित किया और अनेक योगिक क्रियाओं को स्वयं प्रदर्शित करते हुए कराया और बताया कि विश्व योग दिवस 21 जून को बृहद कार्यक्रम का आयोजन परमानंदपुर परिसर में किया गया है।

डा ओ पी चौधरी
मीडिया प्रभारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *