कोराना वायरस के कारण खेती- बाड़ी प्रभावित : प्रो.रवि प्रकाश

1 min read

कोराना वायरस के कारण खेती- बाड़ी प्रभावित : प्रो.रवि प्रकाश

लखनऊ। कोरोना वायरस के कारण 1मई से लाकडाउन चल रहा है। लोग घरों में कैद है ,बहुत आवश्यकता पड़ने पर ही घर से बाहर निकल रहे है। आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौधोगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र सोहाँव बलिया के अध्यक्ष एवं प्रोफेसर (कृषि कीट विज्ञान) डा. रवि प्रकाश मौर्य ने बताया कि 15 मई तक केन्द्र भी लाकडाउन के कारण बन्द है। खेती- बाड़ी ,पशुपालन आदि का कार्य घर में रह करना संम्भव नही है, इस लिये किसान खेतों पर जा रहे है। इस समय जायद की सब्जियां, लौकी ,कद्दू, नेनुआ, भिण्डी, खीरा,करैला, ककड़ी, तरबूज, खरबूजा, दलहनों मे उर्द ,मूँग, तिलहन में सूर्यमुखी आदि खेत मे लगी है। आम ,लीची के फल लगे है । फसलों, सब्जियों, फलो में कीट, रोग एवं अन्य समस्याएं आ रही है। इसके समाधान के लिये लाकडाउन मे भी कृषि विज्ञान केन्द्र सोहाँव बलिया के विषय बस्तु विशेषज्ञ लगातार मोबाइल, हाटसप के माध्यम से किसानों एवं कृषि प्रसार कार्यकर्ताओं से जुडे़ है। वैज्ञानिकों द्वारा समय समय पर फसल, सब्जी, फल, पौध स्वास्थ्य, गृह विज्ञान एवं अन्य बिषयों पर एडवाइजरी जारी की जा रही है।

केन्द्र द्वारा जनपद के कृषकों, कृषक महिलाओं ,नवयुवकों एवं नवयुवतियों को मोबाइल, हाट्सप , समाचार पत्रों के माध्यमों से जागरूक किया जा रहा है। और बेहतर तकनीकी सलाह की सुविधाएं दिया जा रहा है। आरोग्य सेतु एप, किसान रथ एप एवं आयुस कवच एप डाउन लोड करने हेतु तथा साबुन से 20 सेकेंड तक हाथ धोना, मास्क पहन कर घर से बाहर निकलना ,आपसी दूरी चार हाथ बनाये रखने हेतु सभी को प्रेरित किया जा रहा है। किसानों को सलाह दिया जा रहा है कि फोन,मोबाइल ,हाटसप के माध्यमों से अपनी समस्या का समाधान केन्द्र से प्राप्त करें लाकडाउन तक केन्द्र पर न आये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित