के.वी.के. बलिया में बागवानों एवं सब्जी उत्पादकों का प्रशिक्षण व भ्रमण : प्रो. रवि प्रकाश

1 min read

के.वी.के. बलिया में बागवानों एवं सब्जी उत्पादकों का प्रशिक्षण व भ्रमण : प्रो. रवि प्रकाश

लखनऊ। उद्यान विभाग बलिया के सौजन्य से जिला औद्यानिक मिशन योजनान्तर्गत चयनित कृषकों का एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन आचार्य नरेन्द्र देव कृषि एवं प्रौधोगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केन्द्र सोहाँव बलिया परिसर में किया गया । बलिया के जिला उधान अधिकारी नैपाल राम ने विभिन्न योजनाओं पर देय सुविधाओं की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि छोटे ट्रैक्टर एवं पावर ट्रिलर पर 40 प्रतिशत तक अनुदान है। पालीहाउस, पालीनेटहाउस पर 50 प्रतिशत अनुदान है , इन पाली/ नेट हाउस में शिमला मिर्च, खीरा, करैला, टमाटर, अगैती सब्जी मटर , गुलाब , की खेती कर सकते है।

केन्द्र के अध्यक्ष प्रोफेसर रवि प्रकाश मौर्य ने बताया कि सब्जियों में आवश्यकता से अधिक रसायनिक उर्वरकों, कीटनाशकों का प्रयोग न करें। इसके प्रयोग के कारण मानव स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है ,जिसके कारण बहुत सी बीमारियां हो रही है । ऐसी स्थिति में जैविक खाद व जैविक कीटनाशकों का प्रयोग करे। प्रो. मौर्य ने सलाह दिया कि आप सभी फसलों की उत्पादन बढाने के लिए बीजामृत, जीवामृत, पंचगव्य का प्रयोग जैव उर्वरक के रूप में करें । कीट प्रबधंन के लिए सड़ा हुआ छाछ का पानी, दस पर्णी सत्, नीम गोमूत्र सत् , मिर्च अदरक का सत्, अन्य जैव कीटनाशी का प्रयोग करें। कृषि यंत्र विशेषज्ञ ई. एम.पी.सिंह ने आधुनिक कृषि यंत्रों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि सब्जियों की खेती के लिये छोटे ट्रैक्टर, पावरट्रिलर , बैटरी चालित, सौर उर्जा चालित ,स्प्रेयर, की विशेष आवश्यकता होती है। उधान विशेषज्ञ राजीव कुमार सिंह ने फलों सब्जियों में समसामयिक होने वाले कार्यो की जानकारी दी। अंत मे केन्द्र प्रक्षेत्र पर लगी हल्दी, पोषण वाटिका, आँवला अमरूद के साथ साथ चना. मसूर , गेहूँ आदि फसलों का अवलोकन कराकर प्रक्षेत्र प्रवंधक श्री बेद प्रकाश सिंह द्वारा तकनीकी जानकारी दी गयीं। उद्यान निरीक्षक अरूण कुमार यादव, सुभाष राम सहित जनपद के विभिन्न विकास खण्डों से 50 कृषकों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित