---Advertisement---

दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा समय की मांग : मौलाना हैदर अब्बास

1 min read


अंबेडकरनगर। नवासए रसूल हजरत इमाम हुसैन को अपना आदर्श मानने वालों को पाखंड, अंधविश्वास से दूर रहकर सत्य-न्याय के पथ पर अग्रसर होना होगा। इमाम हुसैन का यह कथन हमेशा याद रखना चाहिए कि जिल्लत की जिंदगी से इज्जत की मौत बेहतर है।
उक्त विचार अयोध्या जनपद से आए मौलाना सैयद हैदर अब्बास ने व्यक्त किया। वह अकबरपुर तहसील क्षेत्र के ग्राम मखदूमपुर-सिकंदरपुर में मरहूम कल्बे हसन के पुण्य हेतु आयोजित मजलिस को संबोधित कर रहे थे। उससे पूर्व रौशन जलालपुरी ने कुरान की आयतों से मजलिस कार्यक्रम का आगाज किया। मौलाना हैदर अब्बास ने आगे कहा कि इमाम हुसैन हर उस शख्स के आदर्श हैं जो मानवता, प्रेम, सहिष्णुता के मार्ग पर चलता है। अमर बलिदानी हजरत हुसैन ने कर्बला की भूमि पर इकहत्तर साथियों संग प्राण की आहुति देकर न केवल दीन-ए-इस्लाम की अपितु पूरी इंसानियत और मानव जाति के बुनियादी अधिकारों की रक्षा किया। मौलाना ने उपस्थित जनों से अपील किया कि नई पीढ़ी को दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा दिलाएं जिससे आगे चलकर वे समाज व राष्ट्र की उन्नति में सहभागी बन सकें। उक्त अवसर पर मोहिब अली, मीसम अब्बास, बादशाह हुसैन, दिलावर अब्बास, कल्बे हसन, जैनुल एबा, शाकिर हुसैन, मोहम्मद सलमान, मोहम्मद जावेद, दिलशाद अब्बास सहित अन्य लोग मौजूद थे।

About Author

---Advertisement---

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

---Advertisement---