---Advertisement---

मुस्लिम महिलाओं को लेकर जावेद अख़्तर का बयान मूर्खतापूर्ण : ख़्वाजा शफ़ाअत हुसैन

1 min read

अंबेडकरनगर। बालीवुड के मशहूर पटकथा लेखक, साहित्यकार एवं शायर जावेद अख्तर अपने एक बयान से पुनः विवादों के घेरे में आ गए हैं। उनके इस बयान के बाद मुस्लिम जगत में बवंडर खड़ा हो गया है। परिणाम स्वरूप उन्हें चौतरफा आलोचनाएं झेलनी पड़ रही हैं।
सन् सत्तर के दशक की फिल्म शोले के अतिरिक्त सीता और गीता, जंजीर, दीवार जैसी फिल्मों की कहानी, पटकथा और संवाद लेखन के माध्यम से प्रसिद्धि प्राप्त करने वाले जावेद अख्तर अपने ऊल जुलूल बयानों से प्रायः विवादों के घेरे में आते रहे हैं। ताजा मामला मुस्लिम समुदाय की महिलाओं को लेकर है। जिसमें जावेद अख्तर ने कहा था कि मुस्लिम पुरुषों की भांति इस वर्ग की औरतों को भी चार मर्दों से शादी का अधिकार होना चाहिए। इससे पहले वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ भी विवादित बयान देकर लोगों के निशाने पर आ चुके हैं। कुछ समय पूर्व जावेद अख्तर ने पीएम मोदी के संबंध में कहा था कि वह फासीवादी हैं। उनके कथनानुसार फासीवाद एक विचार है, जिसके जनक हिटलर और मुसोलिनी हैं। बहरहाल जावेद अख्तर के इस हालिया बयान से नई बहस छिड़ गई है जो थमने का नाम नहीं ले रही है। समाजसेवी एवं अल-इमाम चैरिटेबल फाउंडेशन ताजपुर के चेयरमैन ख्वाजा शफाअत हुसैन एडवोकेट ने जावेद अख्तर के बयान को मूर्खतापूर्ण बताते हुए कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि जावेद अख्तर के बयान से पूरे मुस्लिम जगत का अपमान हुआ है लिहाजा उन्हें माफी मांगना चाहिए।

About Author

---Advertisement---

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

---Advertisement---