चोरी बैल के मामले में गौ तस्करों से सुलह करवा कर पुलिस ने दिया क्लीन चिट

1 min read

अवधी खबर

भीटी अंबेडकर नगर। एक तरफ जहां उत्तर प्रदेश सरकार जानवरों को कटने से बचाने का लगातार प्रयास कर रही है वही उसी उत्तर प्रदेश की भीटी पुलिस चोरी किए गए बैल के मामले में गौ तस्करों से सुलह करवा कर अपना पल्ला झाड़ रही है।जबकि पुलिस यह अच्छी तरह से जानती है कि यह लोग गौ तस्कर है और गौ तस्करी का काम करते हैं गौ तस्करों की मदद करके पुलिस रक्षक के स्थान पर भक्षक बन गई है पीड़ित का विश्वास भीटी पुलिस से उठ गया है।मिली जानकारी के अनुसार 10/11 अक्टूबर की रात हरिहर यादव पुत्र स्वर्गीय रामदेव यादव ग्राम भोजपुर थाना भीटी का एक बैल चोरी हो गया चोरी की जानकारी होने पर हरिहर यादव अपने भतीजे आत्माराम के साथ बैल का पता लगाने के लिए बस्ती पुर गांव तक गए बस्तीपुर पहुंचने पर वह मिठाई लाल के घर पहुंचे तो मिठाई लाल के पुत्र शराफत अली को जगाया गया शराफत अली से पूछताछ की गई तो शराफत अली ने बताया कि बैल उसके द्वारा चोरी किया गया है और बैल सुबह वापस कर दिया जाएगा। इन लोगों पर शक होने का कारण यह रहा कि 10 अक्टूबर को यह लोग बैल देखने के लिए हरिहर यादव के घर भोजपुर गए थे और रात में ही इनके द्वारा चोरी कर ली गई।हरिहर यादव के द्वारा थाने पर तहरीर दी गई 11 तारीख को दिनभर पंचायत चली कोई निर्णय नहीं निकला और फिर आज 12 तारीख को पंचायत करके जबरदस्ती सुलह करवा कर पीड़ित को वापस भेज दिया गया और पुलिस के द्वारा गौ तस्करों के विरुद्ध कोई कार्यवाही नहीं की गई उल्लेखनीय है कि बस्तीपुर गांव के कई लोग जानवरों के व्यापार का धंधा करते हैं और उसी की आड़ में इनके द्वारा लगातार गौ तस्करी की जा रही है और इसकी जानकारी भी पुलिस के पास अच्छी तरह से है क्योंकि हल्का सिपाही को गौ तस्करों के बारे में पूरी जानकारी है बताया जाता है कि गौ तस्कर सिपाहियों की मदद से ही आए दिन छुट्टा जानवरों को पकड़कर गाड़ियों में भरकर बाहर भेज रहे हैं। एक तरफ जहां सरकार जानवरों की रक्षा के लिए गौशाला खोल रही है इनके जीवन को बचाने का प्रयास कर रही है तो वही उसी उत्तर प्रदेश सरकार की पुलिस भीटी थाने में तैनात सिपाही गौ तस्करी में गौ तस्करों की मदद करने पर लगे हुए हैं। आखिर जब रक्षक ही भक्षक बन जाएगा तो फिर काम कैसे चलेगा इस मामले में पीड़ित को न्याय मिलना ही चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *