आखिर 14 वर्षीय छात्रा ने क्यो किया आत्महत्या ….. जाने क्यों?

1 min read

अवधी खबर
अंबेडकर नगर।
रेप पीड़िता छात्रा को न्याय न मिलने पर आत्महत्या कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर पुलिस की कार्यशैली को लाल घेरे में खड़ा कर दिया है। सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कड़े रुख के बाद भी पुलिसिया कार्यशैली में सुधार नहीं हो पा रहा है।

मामला मालीपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत एक गांव का है।जहां बीते 16 सितंबर को कक्षा आठ में पढ़ने वाली 14 वर्षीय छात्रा अपने घर से सुबह सात बजे स्कूल में पढ़ने के लिए निकली थी। शाम तक स्कूल से घर वापस ना आने पर परिजनों के द्वारा काफी खोजबीन किया गया लेकिन कोई पता नहीं चल सका। पिता ने थाने पहुंचकर लिखित शिकायत पत्र देकर गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

दो दिन बाद लड़की घर वापस आई तो पिता उसे थाने ले कर गया जहां पुलिस की पूछताछ में उसने बताया कि उसे अपहरण कर कार से लखनऊ के एक होटल में ले जाया गया। जहां उसके साथ सामूहिक रेप किया गया। पूछताछ के दौरान लड़की ने दो युवकों का नाम बताया था बाद में पुलिस ने लड़की का मेडिकल परीक्षण कराते हुए धाराओं की बढ़ोतरी कर नामजद मुकदमा पंजीकृत कर लिया था।

जिसमें अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की गई थी। आरोप है पुलिस के द्वारा आरोपियों के बचाने का पूरा प्रयास किया जाता रहा और सुलह समझौता का दबाव बनाया जाता रहा। दो सप्ताह बाद भी पीड़िता को जब न्याय नहीं मिला तो उसने उस समय अपनी जीवन लीला समाप्त कर लिया जब उसके परिजन दर्शन करने विंध्याचल गए हुए थे।

जिसका शव दुपट्टे से लटकता हुआ पाया गया। सूचना पर पहुंची मालीपुर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए शव को ले जाना चाहती थी। लेकिन ग्रामीणों के बीच पुलिस से लगातार झड़प होती रही ग्रामीणों का कहना था पहले आरोपियों की गिरफ्तारी की जाए तब शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने दिया जाएगा। वही मामला दो संप्रदाय से जुड़ा हुआ है।

अपर पुलिस अधीक्षक गाँव पहुचकर घटनास्थल का जायजा लिया। वही बड़ा सवाल यह भी खड़ा होता है कि इतना गंभीर मामला होते हुए भी मालीपुर थाना प्रभारी चंद्रभान यादव के द्वारा अभी तक आरोपियों की गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई थी। जिसका नतीजा रहा कि रेप पीड़िता 14 वर्षीय छात्रा ने आत्महत्या कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *