मुल्क की तरक्की में बने भागीदार : मौलाना गुलाम रसूल नूरी

1 min read

मुल्क की तरक्की में बने भागीदार : मौलाना गुलाम रसूल नूरी

अंबेडकरनगर। बड़ा इमामबाड़ा मीरानपुर में इम्तियाज हुसैन की ओर से मरहूमा अख्तरी बेगम बिंते सैय्यद जाहिद हुसैन और मरहूम मुख्तार हुसैन इब्ने अख्तर हुसैन के पुण्य हेतु मजलिस का आयोजन हुआ।
पेशखानी कमर अकबरपुरी, रविश जौनपुरी, फहीम अब्बास, जमन अस्करी, चांद तथा सोजखानी इरफान लोरपुरी ने हमनवा के साथ किया। मौलाना गुलाम रसूल नूरी कश्मीरी ने संबोधित किया। उन्होंने पवित्र कुरान के हवाले से अपने ज्ञानवर्धक बयान में कहा अल्लाह हयात देते हैं तो सरवरे कायनात भी जिंदगी बख्शते हैं। मौलाना ने इस तथ्य के समर्थन में आयत प्रस्तुत करते हुए कहा परवर दिगारे आलम कुरान में खुद इरशाद फर्माते हैं कि मेरे हबीब जिंदगी देते हैं। ऐ ईमान वालों दौड़ कर आओ बारगाहे इलाही व बारगाहे सआदत में जब अल्लाह पुकारे। पुकारता अल्लाह है और दहन रसूलल्लाह का होता है। पैगम्बर के जीवन पर अक्सर बहस होती है कि नबी-ए-करीम जिंदा हैं या नहीं। जबकि कुरान में भी यह कहीं नहीं मिलता है कि रसूल जिंदा हैं। मगर यह अवश्य दर्ज है कि पैगम्बर जिंदगी देते हैं। मौलाना नूरी ने बल देकर कहा कि इस आजमाइश भरी मुख्तसर सी जिंदगी के लिए हमेशा की आखिरत वाली जिंदगी को खराब न करें। उन्होंने बड़ी संख्या में उपस्थित अजादारों का आवाहन किया कि अल्लाह, रसूल, कुरान और इतरत के दिखाए संमार्ग पर चलकर खुद अपनी एवं समाज व मुल्क की तरक्की में हिस्सेदार बनें। अंजुमन जाफरिया पेवाड़ा-लोरपुर के नौहाखान इरशाद लोरपुरी ने नौहाखानी किया। कार्यक्रम का संचालन आरिफ अनवर अकबरपुरी ने किया। उक्त अवसर पर पेश इमाम मौलाना अकबर अली वाएज जलालपुरी, मौलाना मोहम्मद अब्बास रिजवी, मौलाना अब्बास रजा आबिदी सहित सैकड़ों लोग मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *