नमाज़ क़ायम करो और ज़कात निकालो : शमीम रज़ा मारूफ़ी

1 min read

नमाज़ क़ायम करो और ज़कात निकालो : शमीम रज़ा मारूफ़ी

अंबेडकरनगर। टांडा तहसील क्षेत्र अंतर्गत ग्राम खासपुर में बुधवार को तहरीक-ए-जाफरिया के तत्वावधान में जुलूसे अजा का वार्षिक मातमी कार्यक्रम शोकपूर्ण वातावरण में संपन्न हुआ। उल्मा-ए-कराम, मातमी दस्तों ने तकरीर व नौहो मातम तथा सोगवार मजमें ने आंसुओ की धार से कर्बला के जांबाज सिपाहियों को नजराना पेश किया। सोजखानी इटरौरा के अकबर अब्बास, नजर अब्बास ने हमनवा संग किया। तत्पश्चात जुलूसे अजा कार्यक्रम का विधिवत आगाज मजलिस से करते हुए मौलाना शमीम रजा मारूफी ने जियारते वारसा में छठें इमाम हजरत जाफरे सादिक अलैहिस्सलाम के हवाले से कहा मैं अपने मजलूम जद की ओर से गवाही देता हूं कि उन्होंने नमाज कायम की, जकात अदा किया एवं नेकी करने व बुराईयों से बचने का हुक्म दिया। लिहाजा सारे अजादारों को अपने इमाम के दिखाए मार्ग पर ईमानदारी से चलना चाहिए।
मौलाना मीसम रामपुरी ने संचालन की जिम्मेदारी निभाते हुए कहा आ गया हुर भी खताएं बख्शवाने के लिए, हो गई तैयारियां जन्नत में जाने के लिए। उससे पहले मुनीर हुसैन ने पेशखानी करते हुए कहा- जमीने कर्बोबला पे कहा ये अकबर ने, इसी जमीन पे हक का बयान हम देंगे। नौहोमातम की शुरुआत करते हुए स्थानीय अंजुमन जुल्फेकारिया के नौहाखान ने पढ़ा ये अलम उठाएंगे हम अहले अजा, शह का गम मनाएंगे हम अहले अजा। जबकि अतिथि अंजुमन मासूमिया मुबारकपुर-आजमगढ़ ने पढ़ा- चौदह सदियां हो गईं मिस्ले तबर्रुक आज भी, बंट रहा है सारी दुनिया में तेरा सदका हुसैन। अंजुमन नासिरूल अजा बड़ागांव-जौनपुर, हैदरी हल्लौर, फैजे हुसैन अरसावां और अंजुमन शमशीरे हैदरी पकरी खास-टांडा ने भी गमे हुसैन की इस मुहिम में हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *