महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत होना है आवश्यक : डा पूनम कौशिक

1 min read

महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत होना है आवश्यक : डा पूनम कौशिक

आज राष्ट्रीय महिला दिवस पर अग्रसेन कॉलेज के शारीरिक शिक्षा विभाग का विशेष आयोजन

वाराणसी। शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।दोनों मिलकर ही व्यक्ति को सम्पूर्ण रूप से स्वस्थ व प्रसन्न बनाते हैं।शारीरिक गतिविधि और प्रतिदिन व्यायाम को बताया बेहद जरूरी। हमें प्रतिदिन कमसकम 30 मिनट का समय अपने फिटनेस के लिए निकालना आवश्यक है। उक्त उदगार, आज श्री अग्रसेन कन्या पी जी कॉलेज वाराणसी के शारीरिक शिक्षा विभाग और आई क्यू ए सी के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित “हेल्थ,फिटनेस और स्पोर्ट्स”विषयक एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार में डा पूनम कौशिक, विभागाध्यक्ष, शारीरिक शिक्षा विभाग, कस्तूरबाग्राम रूरल इंस्टीट्यूट इंदौर ने व्यक्त किया।


अतिथि वक्ता के रूप में सेंट्रल यूनिवर्सिटी साउथ बिहार, गया की फिजिकल एजुकेशन विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर डॉ उषा तिवारी ने कहा कि 1440 मिनट के पूरे दिन रात के समय से हमें रोज केवल 40 मिनट “मी टाइम”के रूप में निकालना अत्यंत आवश्यक है। शारीरिक व्यायाम हमारी मांसपेशियों को मजबूत बनाता ही है,हमें पूरे दिन सक्रिय और ऊर्जावान रखता है। बीएचयू के यूनिवर्सिटी स्पोर्ट्स बोर्ड की सहायक निदेशक डॉ कविता वर्मा ने महिलाओं को शारीरिक व्यायाम की ओर अधिक सक्रिय रहने पर बल दिया। उन्होंने एक्वा थेरेपी के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम की शुरुआत शुरुआत में महाविद्यालय की प्राचार्य प्रोफेसर मिथिलेश सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए यह कहा कि शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। और महिलाएं सबका ध्यान तो रखती है किंतु अपने स्वास्थ्य के प्रति अधिक सचेत नहीं होती अतः आवश्यक है महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत हो। कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुआ। संचालन महाविद्यालय के शारीरिक शिक्षा विभाग की एसोसिएट प्रोफेसर एवम विभागाध्यक्ष डॉ मृदुला व्यास ने किया और धन्यवाद ज्ञापन आई क्यू ए सी समन्वयक तथा अधिष्ठाता शैक्षणिक डॉ अनीता सिंह ने किया। कार्यक्रम में महाविद्यालय के विभिन्न विषयों के प्राध्यापकों तथा छात्राओ के साथ अन्य स्थानों से भी अनेक प्रतिभागीगण उपस्थित रहे।

डॉ ओ पी चौधरी
मीडिया प्रभारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

कॉपीराईट एक्ट 1957
के तहत इस वेबसाईट
पर दी हुई सामग्री को
पूर्ण अथवा आंशिक रूप
से कॉपी करना एक
दंडनीय अपराध है

(c) अवधी खबर -
सर्वाधिकार सुरक्षित